Corona Update: 16 दिनों में 42,715 मरीज, 5 दिन में चार बार मिले 3 हजार से अधिक मरीज

प्रदेश में (Coronavirus ChhattisgarhUpdate) कोरोना वायरस की जड़े दिन व दिन फैलती चली जा रही है। 18 मार्च से अब तक 73,910 लोग संक्रमित हो चुके हैं। मगर, सबसे ज्यादा मरीज सितंबर में मिल रहे हैं। सितंबर के 16 दिनों में 42,715 मरीज मिल चुके हैं।

By: Ashish Gupta

Published: 17 Sep 2020, 06:00 PM IST

रायपुर. प्रदेश में (Coronavirus ChhattisgarhUpdate) कोरोना वायरस की जड़े दिन व दिन फैलती चली जा रही है। 18 मार्च से अब तक 73,910 लोग संक्रमित हो चुके हैं। मगर, सबसे ज्यादा मरीज सितंबर में मिल रहे हैं। सितंबर के 16 दिनों में 42,715 मरीज मिल चुके हैं। यानी हर दिन औसतन 2670 मरीज मिल रहे हैं। अगर, आने वाले दिनों में इसी तफ्तार से मरीज मिले तो 30 सितंबर तक 1.20 लाख लोग संक्रमित होंगे।

आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हैं कि यह आंकड़ा इससे कहीं अधिक भी हो सकता है, क्योंकि बीते 5 दिनों में चार दिन संक्रमित मरीजों की संख्या 3 हजार का आंकड़ा पार कर चुकी है। जिस रफ्तार से संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है उसी रफ्तार से मौत के आंकड़े भी बढ़ रहे हैं। मृत्युदर 0.87 प्रतिशत पर है।

सच्चाई यह है कि संक्रमण रूकने वाला नहीं हैं क्योंकि हर स्तर पर लापरवाही जारी है। आम हो या व्यक्ति खास, या फिर पढ़े-लिखे खुद को समझदार कहने वाले व्यक्ति ही क्यों न हो हर स्तर पर कहीं न कहीं कुछ न कुछ लापरवाही जारी है। मगर, एक पक्ष यह भी है कि संक्रमण चारों तरफ फैल चुका है। आपको नौकरी पर जाना है। बाजार जाना है। किराना दुकान जाना है। जहां संक्रमण है तो कैसे बचेंगे? अब तो लोगों के बीच यह भी चर्चा शुरू हो गई है 'हमारा नंबर कब आएगा...।'

सारे अनुमान पर फिर गया पानी
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, राज्य स्वास्थ्य विभाग के सारे अनुमानों पर पानी फिर गया। क्योंकि इन्होंने सितंबर तक 1.20 लाख लोगों के संक्रमित होने का अनुमान नहीं लगाया था। मगर, अब यह आंकड़ा बहुत नजदीक दिखाई पड़ रहा है। पं. जेएनएम मेडिकल कॉलेज रायपुर की रिपोर्ट में सितंबर तक 60 मरीज मिलने का अनुमान लगाया था। यह आंकड़ा भी पीछे छूट गया।

बिना ब्रेक के काम कर रहा अमला
प्रदेश में स्वास्थ्य अमला मार्च से बिना ब्रेक के काम कर रहा है। न सिर्फ स्वास्थ्य अमला, बल्कि नगर निगम, जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी बिना ब्रेक के काम कर रहे हैं। ये मानसिक और शारीरिक रूप से तनाव में हैं। मगर, काम कर रहे हैं। 12 सौ से हेल्थकेयर वर्कर और फ्रंटलाइन वॉरियर्स संक्रमित हो चुके हैं। मगर, इनका काम जारी है। जज्बा बरकरार है।

संक्रमण बढऩे की प्रमुख वजहें
1- मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का पालन न करना। बेवजह घरों से निकलना।
2- सैंपल देने के बाद लगातार परिजनों के संपर्क में रहना। दोस्तों से मिलना। काम पर जाना, मगर यह न बताना की कोरोना जांच के लिए सैंपल दिया है।
3- सर्दी, जुकाम, बुखार, सांस लेने जैसी समस्या होने के बाद भी कोरोना जांच न करवाना।झोलाछाप या फिर मेडिकल स्टोर से दवा लेने खाना।
4- दाह संस्कार में बड़ी संख्या में लोगों का शामिल होना। शादी, जन्मदिन की पार्टियों का आयोजन में अधिक लोगों का आना।
5- कोरोना वॉरियर्स को संक्रमण से बचाने वाले साधन-संसाधन की कमी। ड्यूटी के बाद क्वारंटाइन के नियमों में संशोधन भी प्रमुख वजह है।

इन उपायों से हम आज भी जीत सकते हैं जंग
मास्क- घर की दहलीज पार करने से पहले मॉस्क अवश्य लगाएं। जितनी देर घर से बाहर रहें, मॉस्क को कतई न निकालें।
सोशल डिस्टेसिंग- घर के बाहर हर व्यक्ति से 2 मीटर की दूरी बनाकर चलें।खरीददारी के लिए अगर पांच मिनट इंतजार करना पड़े इंतजार कर लें। जरुरत पडऩे पर ही घर से बाहर निकलें। कोशिश करें कि हफ्तेभर की सामग्री जमा कर रखें, ताकि बार-बार बाहर जाना न पड़े।
सेनेटाइजेशन- कहीं भी जाएं सेनेटाइजर साथ रखें। घर आएं तो पूरे कपड़ों बदलें, नहाएं। कपड़ों को गरम पानी में डूबाएं तो बेहतर होगा।
आइसोलेट रखें- अगर आपने सैंपल लिया है तो खुद को पॉजिटिव मानकर चलें। खुद को आईसोलेट करके रखें, जब तक की रिपोर्ट नहीं आती।
बुजुर्गों का ख्याल रखें- घर में बड़े-बुजुर्गों का पूरा ध्यान रखें। अगर, वे किसी बीमारी से पीडि़त हैं तो खास ध्यान दें। गर्भवती महिलाओं, बच्चों का भी ध्यान रखें। इन्हें बाहर न निकलने दें।

स्वास्थ्य विभाग प्रवक्ता एवं संयुक्त संचालक डॉ. सुभाष पांडेय ने कहा, लोगों की लापरवाही की वजह से संक्रमण बढ़ रहा है। अगर, सभी यह ठान लें कि महामारी अधिनियम से जुड़े सभी नियमों का पालन करें, तो संक्रमण की रफ्तार को कम किया जा सकता है।

10 सितंबर से रोजाना मिले मरीजों की संख्या
तारीख- पॉजिटिव
10 सितंबर- 2227
11 सितंबर- 2438
12 सितंबर- 3120
13 सितंबर- 2228
14 सितंबर- 3336
15 सितंबर- 3450
16 सितंबर- 3137

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned