दो माह पहले 48 बाबुओं का तबादला, 25 अब भी जाने को तैयार नहीं, मिला नोटिस

- कलेक्ट्रेट में दो माह पहले किया गया था बाबुओं का तबादला
- इनमें से तकरीबन 25 बाबू अपनी कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं

By: Ashish Gupta

Published: 06 Mar 2021, 10:41 AM IST

रायपुर. बीते माह कलेक्ट्रेट में 48 बाबुओं का स्थान परिवर्तन किया गया था। इनमें से तकरीबन 25 बाबू अपनी कुर्सी छोड़ने को तैयार नहीं हैं। इससे नाराज होकर अपर कलेक्टर ने सभी बाबुओं को नोटिस जारी कर दिया है। अब एक सप्ताह का समय देकर अपनी नई पदस्थापना में जाने का निर्देश दिया गया है। अब इसके बाद बाबुओं पर कार्रवाई की गाज गिर सकती है।

व्यापमं ने जारी की 2021 में होने वाले एग्जाम की डेट, जानिए कब होगी कौन सी परीक्षा

संभाग कमिश्नर ने बीते साल मार्च माह में ही सभी बाबुओं के विभाग बदलने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद कलेक्टर ने दो माह पहले सभी बाबुओं की स्थान परिवर्तन कर दिया था। बाबुओं की शिकायतें आने पर संभाग कमिश्नर ने रायपुर समेत नहीं संभाग के सभी कलेक्टरों को निर्देशित किया था कि बाबुओं की टेबल बदली जाए।

यह है कारण
शासन की मंशा रही है कि जिला और स्थानीय प्रशासन पर ऐसी व्यवस्था बनायी जाए जिससे लिपिकों को सभी शाखाओं के कामों की जानकारी हो। इससे भविष्य में भी उनसे किसी भी विभाग में बेहतर काम लिया जा सकेगा। अभी अधिकतर लिपिक एक ही शाखा और टेबल में लंबे समय से रहने के कारण कार्यालयों की अन्य शाखाओं के कामों की जानकारी नहीं रख पाते।

कोरोना से ठीक के बाद भूलकर भी न करें ये काम वरना हो जाएंगे इस बीमारी के शिकार

तहसील का बुरा हाल
तहसील कार्यालय में वर्षों से स्थान नहीं बदलने के कारण बाबूओं की मनमानी चरम पर है। वे आम जनता के काम के निपटारे में देरी करते हैं। जनता के लिए तहसील में तयशुदा सिटीजन चार्टर का भी पालन नहीं करते। तहसील कार्यालय में ऐसे 11 बाबू हैं जो बीते 7 से 8 वर्षों से एक ही कार्य का प्रभार संभाल रहे हैं।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned