कोरोना के कारण पंजीयन एवं मुद्रांक के राजस्व में 98 करोड़ का घाटा

पंजीयन विभाग ने इस वित्तीय वर्ष में अब तक 27 हजार 18 दस्तावेजों का पंजीयन कर स्टाम्प ड्यूटी एवं पंजीयन शुल्क में 124 करोड़ 52 लाख रुपए के राजस्व की प्राप्ति हुई है।

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 17 Jun 2020, 01:22 PM IST

रायपुर . कोरोना संक्रमण की वजह से पंजीयन विभाग को 98 करोड़ 31 लाख रुपए का घाटा हुआ है। पंजीयन विभाग ने इस वित्तीय वर्ष में अब तक 27 हजार 18 दस्तावेजों का पंजीयन कर स्टाम्प ड्यूटी एवं पंजीयन शुल्क में 124 करोड़ 52 लाख रुपए के राजस्व की प्राप्ति हुई है। जबकि पिछले वित्तीय वर्ष में इसी अवधि तक 48 हजार 919 दस्तावेजों का पंजीयन किया गया था और स्टाम्प ड्यूटी एवं पंजीयन शुल्क में 222 करोड़ 84 लाख रुपए की आय अर्जित की गई थी।

गौरतलब है कि इस वर्ष मार्च, अप्रैल और मई में कोरोना संकट के कारण देशव्यापी लॉकडाउन किया गया था, जिसके कारण स्टाम्प ड्यूटी एवं पंजीयन शुल्क से कम राजस्व मिल पाया है। राज्य शासन द्वारा लॉकडाउन के बाद राज्य के सभी पंजीयन कार्यालयों में कामकाज पुन: शुरू किया है।

1 महीन में 31 फीसदी अधिक राजस्व
पंजीयन कार्यालय में फिर से कामकाज शुरू होने के बाद राजस्व में काफी वृद्धि आई है। पंजीयन विभाग के अधिकारियों के मुताबिक अब तक इस माह में राज्य के पंजीयन कार्यालयों 13 हजार 426 दस्तावेजों का पंजीयन किया गया है। जिससे स्टाम्प ड्यूटी एवं पंजीयन शुल्क के रूप में 62 करोड़ 42 लाख रुपए के राजस्व की प्राप्ति हुई है। यह राजस्व प्राप्ति पिछले वर्ष के जून की इसी अवधि से 31 प्रतिशत ज्यादा है।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned