आगामी सत्र से छत्तीसगढ़ के हर शहर में खुलेगा एक सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल

स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव ने जिला कलेक्टरों को लिखा पत्र
एक सप्ताह में स्कूल चयन कर सुधार योजना बनाकर भेजे जाने के दिए निर्देश

By: ramendra singh

Published: 18 Feb 2020, 01:04 AM IST

रायपुर . प्रदेश में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता पर सरकार का जोर दिखाई पड़ रहा है। इंग्लिश मीडियम के स्कूल खोले जाने की सरकारी पहल के बीच स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डाक्टर आलोक शुक्ला ने सभी जिला कलेक्टरों को पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने लिखा है कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा राज्य की सबसे बड़ी प्राथमिकताओं में से एक है। चि_ी में यह भी लिखा है कि प्रत्येक जिले में कम से कम एक इंग्लिश मीडियम का स्कूल खोला जाए। पत्र में कलेक्टरों से कहा गया है कि इन स्कूलों के लिए नवीन भवन का निर्माण नहीं किया जाना है, बल्कि वर्तमान में संचालित स्कूलों के भवनों में ही यह स्कूल संचालित किए जाने है। इन स्कूलों में कक्षा एक से 12वीं तक की कक्षाएं एक साथ प्रारंभ की जाएगी। डॉ. शुक्ला ने कलेक्टरों को इस संबंध में स्कूलों का चयन कर प्रत्येक स्कूल के सुधार के लिए पूरी योजना बनाकर एक सप्ताह में शासन को अवगत कराने के निर्देश दिए है।

चयनित स्कूलों में उत्कृष्ट शिक्षकों और प्राचार्यों की होगी तैनाती

डॉ. शुक्ला ने बताया कि चयनित स्कूलों में शासन द्वारा उत्कृष्ट प्राचार्यों की पदस्थापना की जाएगी। कलेक्टरों को इस संबंध में चिन्हित स्कूलों की सूची अविलंब भेजने कहा गया है। पत्र में कहा गया है कि स्कूल की योजना बनाने में प्राचार्य का भी सहयोग लिया जाए। उन्होंने बताया कि शासन द्वारा प्राथमिक और माध्यमिक स्तर पर इंग्लिश मीडियम के शिक्षकों की नियुक्ति की प्रक्रिया वर्तमान में प्रचलन में है। चयनित स्कूलों में इंग्लिश मीडियम के उत्कृष्ठ शिक्षकों की पदस्थापना शीघ्र की जाएगी।

अपैैल तक पूरी होनी है शिक्षकों की चयन प्रक्रिया

शिक्षकों के चयन की प्रक्रिया अप्रैल माह के अंत तक पूरी की जानी है, जिससे चयनित शिक्षकों के लिए एक इंडक्शन प्रशिक्षण आगामी सत्र के पहले आयोजित किया जा सके। जिला कलेक्टरों से कहा गया है कि इन स्कूलों में वर्तमान में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए आस-पास के हिन्दी माध्यम के शासकीय स्कूलों में पढऩे की व्यवस्था करनी होगी. इस बात का ध्यान रखा जाए कि हिन्दी माध्यम के शासकीय स्कूलों के गुणवत्ता सुधार की योजना में साथ में बनाई जाए, जिससे हिन्दी माध्यम में पढऩे वाले बच्चें भी उच्च गुणवत्ता की शिक्षा प्राप्त कर सके।

ramendra singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned