मोहब्बत का पैगाम देते हुए निकाला जुलूस

नवापारा-राजिम . शहर में मुस्लिम समाज के द्वारा जुलूस निकाला गया। बड़ी संख्या में नबी के दीवानों ने शहर के मुख्य मार्गो पर जलसा निकाला।

नवापारा-राजिम ञ्च पत्रिका. शहर में मुस्लिम समाज के द्वारा जुलूस निकाला गया। बड़ी संख्या में नबी के दीवानों ने शहर के मुख्य मार्गो पर जलसा निकाला। जुलूस जामा मस्जिद से निकलकर शहर के प्रमुख मार्ग स्टेशनपारा, चांदी चौक, मोमिनपारा, सदर बाजार, कुम्हार पारा, शिव चौक, सुभाष चौक, गंज मार्ग, काली मंदिर, कृषि उपज मंडी, पंजवानी चौक, देना बैंक, महावीर चौक, गांधी चौकस नेहरू गार्डन होते हुए वापस जामा मस्जिद पहुंचा। इस दौरान मार्ग में स्थानीय परिषद ने नगर पालिका के पास नगर पालिका के पार्षदगण, गांधी चौक वसदर में जुलूस का जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया। साथ ही फल, ठंडा, शर्बत, बिस्किट, चॉकलेट आदि भी दिया गया। जुलूस में बड़ी संख्या में बच्चे, युवा सभी वर्ग के लोग शामिल हुए। जुलूस के दौरान सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुलिस बल साथ में शामिल था।
जामा मस्जिद में दोपहर में परचम कुशाई की रस्म अता की गई। जलालुद्दीन रिजवी द्वारा सलातो-सलाम पेश करने के बाद देश, प्रदेश और शहर में अमन-चैन व आपसी भाईचारे की दुआएं मांगी गई। उसके बाद आम लंगर शुरू हुआ। शहर के मुस्लिम समाज के अध्यक्ष मुस्ताक ढेबर सहित मुस्लिम समाज ने व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस प्रशासन को धन्यवाद दिया है।
जुमेरात को बाद नमाजे ईशा तकरीरी प्रोग्राम जामा मस्जिद के बाजू सीरत मैदान में सम्पन्न हुआ। शुक्रवार व शनिवार दोनों दिन तकरीर के प्रोग्राम में मुकर्रिरे खुसूसी अहसानुल हक बरेली शरीफ ने शानदार तकरीर की। कारी साजिद साहब बांदा और सिकंदर अली शादाब कोलकाता ने रूमानी आवाज में नातो-मनकबत पेश किया। हाफिज व कारी मो. फाइक रजा व शिरत कमेटी की दे रेख में सभी जलसे हुए। जामा मस्जिद के इमाम मुमताज आलम, गौसिया मस्जिद के इमाम मौलाना गुलाम अली साहब रौनके स्टेज थे। जुमा को बाद नमाजे ईशा नातिया मुशायरा रखा गयाष जिसमें शहर व बाहर के नात खां ने रूमानी आवाज में नात पढ़ा।
शनिवार को फजर व जोहर की नमाज के पहले रसूलल्लाह सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के मुए (सिर के बाल) मुबारक की जियारत कराई गई। जुलूस में शफीक भाई, नुरुल रिज़वी, गुलाम मुस्तफा, रफीक खत्रीस नायब भाई, सहीद राजा, हामिद खत्री, नवाब वारसी, अयूब खत्री, इस्माइल, गुलाम भाई, बिलाल अहमद रिज़वी, अनश रिज़वी सहित सैकड़ों मुसलमान भाई शरीक थे।

dharmendra ghidode
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned