scriptaajkal rajniti se niti, vichar, aadrsh, shiddhant gayab he | जनतंत्र म नेतामन मारत हें मजा, जनता के हे सजा! | Patrika News

जनतंत्र म नेतामन मारत हें मजा, जनता के हे सजा!

कसम से ये भुइंया म हजारों बछर के इतिहास म अइसन ‘अंधराजुग’ आज तक नइ आय रिहिस। लागथे अब आ गे हे। इहां के सीधा-साधा, भोला-भाला मनखेमन झट ले नेतामन ऊपर बिसवास कर लेथें। अब नेतामन वोकरमन के बिसवास ल कुटि-कुटि कर देवत हें। रहि-रहि के समे-समे म सबो पारटी वोमन ल ठगे हें।

रायपुर

Published: March 29, 2022 04:45:18 pm

मितान! आजकाल के राजनीति म बिचार, सिद्धांत, उद्देस्य सब ‘गदहा के सींग’ कस गायब हे। ऊटफुटांग जुबाव देवइयामन तो गुड़ म माछी भिनभिनाय कस बने बात कहइया ऊपर चघ बइठथें। सत्ता के लालची-सुवारथी नेतामन जनता ल एक-दूसर सेलड़वाय के काम करथें। राजनीतिक दलमन अपन हित के मुताबिक जुन्ना बात, घटना, इतिहास ल जइसे पावत हें, तइसे जनता ल बतावंत हें। हमर सियानमन कहे हावंय -‘बीते बात ल बिसार दव, अउ आगू के सोचव।’ फेर, इहां तो उलटा नरवा बोहावत हे।
सिरतोन! अलग-अलग पारटीमन से जुड़े नेतामन ‘बिना मतलब के बात’ ल उछालत रहिथें। खोर-गली म लड़ई-झगरा करइया लोगनमन कस एक-दूसर बर आने-ताने बोलत रहिथें। अउ ये सब ह वो भुइंया म होवत हे जिहां परबित गंगा मइया बोहाथे। अउ, आज उही ह सबले जादा मइलाहा (परदूसित) होगे हे। नेतामन के ‘सत्ता पोगराय के खेल’ म सबसे जादा दुविधा म ‘छोटकिन मतदाता’ हे। जेन ल दुनिया के सबले बडक़ा लोकतंत्र के सबले जादा ‘ताकत वाले मनखे’ बताय जाथे। जेकर एक अंगरी के इसारा म ‘सत्ता’ बदले के बड़े-बड़े बात कहे जाथे।
मितान! कसम से ये भुइंया म हजारों बछर के इतिहास म अइसन ‘अंधराजुग’ आज तक नइ आय रिहिस। लागथे अब आ गे हे। इहां के सीधा-साधा, भोला-भाला मनखेमन झट ले नेतामन ऊपर बिसवास कर लेथें। अब नेतामन वोकरमन के बिसवास ल कुटि-कुटि कर देवत हें। रहि-रहि के समे-समे म सबो पारटी वोमन ल ठगे हें। जेन काम ल जनता के हित बर करे बर चाही, वोला नइ करंय, अउ अंनते-तंनते के काम ल गिनावत रहिथें। अपन वादा ल निभाय रहितिन त हर चुनई के समे उहिच वादा ल घेरे-बेरी नइ करे बर परतिस। जनता के हाथ जोरे अउ पांव परे के कभु नौबत नइ आतिस।
सिरतोन! नेतामन कोनो पारटी म रहंय, वोकरमन के मजेच रहिथे। जेन पारटी म मजा नइ आवय, त तुरते दूसर पारटी म मजा मारे बर चल देथें। एक पारटी के चिनहा म जीत के दूसर पारटी के सरकार म मंतरी बने म घलो नइ लजावंय। अपन पारटी, अपन नेता ल धोखा देवई, मतदातामन सेे बिसवासघात करई ल दलबदलू नेतामन नवा ‘चानक्य नीति’ समझे बर धर ले हें।
दल बदलई, कुरसी पवई ल ही आज के नेतामन ‘महान काम’ समझ बइठे हें। दुरगति तो जनता (मतदाता) के बनथे। दुनियाभर के मुसीबत गरीब मनखेमन ल उठाय बर परथे। जब जनतंत्र म जनतेच ह सबले जादा पीरा सहत हे, सबले जादा दुख भोगत हे, त अउ का-कहिबे।
जनतंत्र म नेतामन मारत हें मजा, जनता के हे सजा!
जनतंत्र म नेतामन मारत हें मजा, जनता के हे सजा!

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

पेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलानArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दलंदन में राहुल गांधी के दिए बयान पर BJP हमलावर, बोली- 1984 से केरोसिन लेकर घूम रही कांग्रेसThailand Open 2022: सेमीफाइनल मुक़ाबले में ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट से हारीं सिंधु, टूर्नामेंट से हुई बाहरपैंगोंग झील पर जारी गतिरोध के बीच रेलवे ने सुपरफास्ट ट्रेनों के लिए चीनी कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया?Rajiv Gandhi 31st Death Anniversary: अधीर रंजन ने ये क्या कह दिया, Tweet डिलीट कर देनी पड़ रही सफाई, FIR तक पहुंची बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.