दुस्करमीमन ल फांसी दे जाय

कइसे बाचही नारी-परानीमन के इज्जत?

By: Gulal Verma

Published: 24 May 2018, 11:09 PM IST

समाज म होवत चरित्तर ल कहे अउ सुने म बड़ अलकरहा लागथे। चरित मनखे के वो गहना हे जेला पहिने ले समाज म मान-सम्मान बाढ़थे। पुन घलो मिलथे। मन साफ, त तन साफ। फेर, आज कोनो ल चरित के चिनता-फिकर नइये। रुपिया-पइसा के भूख अउ मया के झूठ। ये दूनों जिनिस ह चरित पतन के अलहन ए।
सतजुग, तरेता अउ दुवापर के राक्छसमन ले बड़का राक्छस आज समाज म हावंय। जउनमन नारी देह ल गिधवा कर नोचत हें। नता-रिस्ता ल दागदार करत हें। धरम-ईमान ल बेचत हें। रोज्जेच नारी के इज्जत लूटत हे। छेडख़ानी होवत हे। आज के आधुनिक जुग म टेलीबिजन, सिनेमा, इंटरनेट अउ पस्चिमी संस्करीति के परभाव समाज उप्पर घलो परत हे। ऐला रोके के खच्चित जरूरत हे। भारतीय संस्करीति, संस्कार ल बचाय बर परही। दुस्करम करइया, धरम-करम ल छोड़इयामन के जुरुम ल माफ नइ करे जा सकय। दुस्करमीमन ल तुरते फांसी म लटका देय बर चाही। दूसर के जिनिस ल खाय, लूटे म मजा आवत हे। काली जुवर तोरो जिनिस ल कोनो खाही, लूटही त तोला कइसे जियानही।
समाज ह आगू आवय
आ ज 'नारीÓ कहुं सुरक्छित नइये। इस्कूल-कालेज अउ धारमिक जगामन म घलो अनैतिक काम होवत हे। लचर कानून बेवस्था, नियाव मिले म बिलंब अउ समाज के कमजोरी के सेती दुराचारीमन के कुछु नइ बिगड़त हे। न कानून के डर हे अउ न समाज के। सरकार ह बारा बछर ले कम उमर के नोनीमन से दुस्करम के दोसीमन ल मउत के सजा देय के कानून बनावत हे। फेर का कानून बने ले दुस्करम रुक जही? का गलत-सलत काम करइयामन डररा जहीं? दुस्करम करइयामन ल बचइयामन ल का ये बात के एहसास होही के पीडि़त अउ वोकर परिवारवाले मन उप्पर का बीतथे?
भले दुस्करम करइया रिस्तेदार, जान-पहिचान वाला हो, भले अपन या दूसर जात-बिरादरी, समाज के हो, फेर वोहा अधरम, अनैतिक काम करे हे त समाज ह का वोला बचाय के ठेका ले रखे हावय? दुस्करमी अउ वोला बचइयामन ल तुरते समाज ले खेदार दे चाही। वोमन ल सजा देवाय बर समाज ल आगू आय बर चाही। समाज म गिरत नैतिक अउ चारित्रिक पतन ल रोके बर चाही।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
अगली कहानी
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned