scriptActor Tushar Pandey interview at raipur | आश्रम के सत्ती बोले- दर्शकों में बनी इमेज तोड़ने कुछ नया करना होता है | Patrika News

आश्रम के सत्ती बोले- दर्शकों में बनी इमेज तोड़ने कुछ नया करना होता है

शॉर्ट मूवी लावास्ते की शूटिंग करने रायपुर पहुंचे एक्टर तुषार पांडेय

रायपुर

Published: December 02, 2021 04:45:53 pm

ताबीर हुसैन @ रायपुर . बतौर एक्टर किसी किरदार से बाहर निकलना हमारे लिए बड़ा आसान होता है लेकिन आडियंस के लिए मुश्किल। इसलिए जब तक आप बिल्कुल अलग नहीं करेंगे तो उनके इमेजिन को तोड़ नहीं पाएंगे। यह कहा छिछोरे के मम्मी और आश्रम के सत्ती यानी तुषार पांडेय ने। वे सुधीश कनौजिया निर्देशित शॉर्ट फिल्म 'लावास्ते' की शूटिंग करने रायपुर आए हैं। कुम्हारी स्थित पुराना कपड़ा बाजार में शूटिंग के बाद तुषार ने पत्रिका से एक्सक्लूसिव बातचीत की। तेवर, अगली बार, फैंटम, पिंक, बियांड ब्लू और हम चार आदि फिल्में भी कर चुके तुषार पांडेय ने कहा कि किसी भी किरदार को बनाने में अकेले आप ही नहीं बहुत से लोगों की भूमिका होती है। शूट से 4-5 महीने पहले आप सलेक्ट होते हो फिर उस किरदार के लिए सोचना शुरू करते हो। उसमें ढलने के लिए पूरी टीम आपकी मदद करती है तब फाइनल प्रोडक्ट बाहर निकलता है और हमें लगता है कि मेहनत सफल हुई। बताते चलें कि तुषार नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा दिल्ली से पासआउट हैं। एक्टिंग की डीप नॉलेज के लिए स्कॉलरशिप से लंदन इंटरनेशनल स्कूल ऑफ परफॉर्मिंग आट्र्स से पढ़ाई की। बेसिकली वे थिएटर की उपज हैं।
आश्रम के सत्ती बोले- दर्शकों में बनी इमेज तोडऩे कुछ नया करना होता है
रायपुर- कुम्हारी के पुराना कपड़ा मार्केट में शूट के दौरान तुषार पांडेय को सीन समझाते निर्देशक सुधीश कनौजिया।
कैरेक्टर मायने रखता है, टाइमिंग नहीं

एक्टर के लिए किरदार मायने रखता है न कि टाइमिंग। आज मैं शॉर्ट फिल्म कर रहा हूँ तो इसका यह मतलब कतई नहीं कि बड़ी फिल्मों के बाद इसे नहीं कर सकते। रंगमंच में तो सबसे पहले मुझे 2 मिनट का रोल मिला था। फिर मैंने लीड रोल भी किया। वहां हमने प्रोडक्शन भी किया। लाइटिंग भी की। थिएटर में ऐसा सभी को करना पड़ता है।
इंजीनियरिंग सब्जेक्ट पढ़े लेकिन कोई भी एग्जाम नहीं दिया

11वीं-12वीं में मेरे सब्जेक्ट इंजीनियरिंग वाले ही थे लेकिन मैंने इंजीनियरिंग का कोई भी एग्जाम नहीं दिया। क्योंकि मेरी रुचि भी नहीं थी। थिएटर कोटा से मेरा दिल्ली यूनिवर्सिटी में सलेक्शन हो गया और मैंने किरोड़ीमल कॉलेज से अंग्रेजी में ऑनर्स किया। वहां प्लेयर्स थिएटर ग्रुप है जहां 3 साल मैंने अच्छे से ड्रामा किया। इसके बाद 3 साल एनएसडी फिर दो साल लंदन में पढ़ाई की। वापसी के बाद एनएसडी में टीचिंग की। फिर मुंबई का रुख किया। वहां मैं एक थिएटर स्कूल मुम्बई ड्रामा में सात-आठ साल से इन्वॉल्व हूँ।
ओटीटी ने बढ़ाए दायरे

ओवर द टॉप (ओटीटी) के चलते हर किसी का दायरा बढ़ चुका है। नई-नई कहानियां आने लगी हैं। रियलिस्टिक लोकेशन में फिल्में शूट होने लगी हैं। लोकल स्तर पर भी काम बढ़ रहा है। इसके चलते मुम्बई में ही रहकर काम करने का बेरियर हट गया है। मायने यह रखता है कि आप अपने आर्ट को कितना निखार पाते हैं। चाहे आप शॉर्ट फिल्म करें, थिएटर करें, कहीं इन्वॉल्व रहिए या पढ़ें। एक्टर के लिए यह जरूरी होता है।
आश्रम के सत्ती बोले- दर्शकों में बनी इमेज तोडऩे कुछ नया करना होता है

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Numerology: कम उम्र में ही अच्छी सफलता हासिल कर लेते हैं इन 3 तारीखों में जन्मे लोगहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीweather update: राजस्थान के इन जिलों में हुई बारिश, जानें आगे कैसा रहेगा मौसमतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan

बड़ी खबरें

UP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोहेट स्पीच को लेकर हिन्दू संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, कहा-मुस्लिम नेताओं की भी हो गिरफ्तारीCovid-19 Update: देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, ओमिक्रॉन केस 10 हजार पारनेताजी की जयंती अब पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाएगी, PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी श्रद्धांजलिछत्तीसगढ़ में माओवादियों की मांद में सेंध लगाएगा BSF का एरावत, पहली बार 10 एमपीवीं पहुंची CG, जंगलों में होगा तैनातपोस्ट ऑफिस ग्राहकों के लिए नया नियम, बिना पासबुक रुक जाएंगे आपके यह काम, जानें पूरी डिटेलघने कोहरे की वजह से तेजस एक्सप्रेस हुई लेट, रेलवे देगा 544 यात्रियों को भारी मुआवजा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.