कोरोना संकट के बीच जीका वायरस का खतरा: छत्तीसगढ़ में अलर्ट जारी, जानें लक्षण और बचाव

Zika virus threat: छत्तीसगढ़ अभी कोरोना की दूसरी लहर (Second wave of Coronavirus) के विरुद्ध जंग लड़ रहा है। रोजाना 300 नए मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं और 3 जानें जा रही हैं। इस बीच जीका वायरस (Zika Virus) नाम की नई मुसीबत केरल तक जा पहुंची है।

By: Ashish Gupta

Published: 19 Jul 2021, 11:41 AM IST

रायपुर. Zika virus threat: छत्तीसगढ़ अभी कोरोना की दूसरी लहर (Second wave of Coronavirus) के विरुद्ध जंग लड़ रहा है। रोजाना 300 नए मरीज रिपोर्ट हो रहे हैं और 3 जानें जा रही हैं। इस बीच जीका वायरस (Zika Virus) नाम की नई मुसीबत केरल तक जा पहुंची है। वहां 28 मरीज मिले हैं। पड़ोसी राज्य मध्यप्रदेश में 2018 में जीका संक्रमित मरीज मिलने के बाद अलर्ट जारी कर दिया है। इन्हीं सब परिस्थितियों को देखते हुए छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के ट्रेंड में नया बदलाव, 24 घंटे में मिले इतने पॉजिटिव, कहीं वायरस की री-एंट्री तो नहीं

विभाग ने सभी जिला सीएमएचओ को गाइडलाइन मेल कर दी गई हैं। हालांकि कभी भी छत्तीसगढ़ में जीका का केस रिपोर्ट नहीं हुआ है, मगर खतरा तो है ही। एडीज एजेप्टाइ मच्छर (मादा) के काटने से होने वाली इस बीमारी का खतरा इसलिए भी अधिक है क्योंकि राज्य के कई जिले खासकर बस्तर और सरगुजा संभाग मच्छर प्रभावित जिले माने जाते हैं।

यह वायरस बच्चों और गर्भवतियों के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक माना जाता है। इसलिए इनका विशेष ध्यान रखने के निर्देश जिलों को दिए गए हैं। साथ ही यह भी कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति में बीमारी के लक्षण दिखते हैं तो तत्काल ब्लड सैंपल लेकर जांच करवाएं।

यह भी पढ़ें: खतरा बरकरार: एमपी, यूपी समेत 7 राज्यों में जितने मरीज मिले, उतने अकेले छत्तीसगढ़ में

लक्षण जानें- ज्यादातर संक्रमितों में लक्षण नहीं होता। मगर, हल्का बुखार,लाल दाने, जोड़ों में दर्द, सिरदर्द व बैचेनी इसके प्रमुख लक्षण होते हैं।
बचाव- घर के आसपास साफ सफाई रखें। पानी जमा न होने दें। पूरी बाहों के कपड़े पहनें। बच्चों और गर्भवतियों का विशेष रूप से ध्यान रखें।

एडीज एजेप्टाइ मच्छर है वजह
एडीज एजेप्टाइ मच्छर (मादा) के काटने से ही डेंगू, चिकनगुनिया और इसके काटने से ही जीका वायरस से व्यक्ति ग्रसित हो जाता है।यह मच्छर किसी संक्रमित व्यक्ति को काटता है और फिर किसी अन्य व्यक्ति को काटने पर वह वायरस एक से दूसरे में पहुंचता है। सावधानी की बचाव है।

यह भी पढ़ें: तीसरी लहर में कुपोषित बच्चों को सुरक्षित रखना बड़ी चुनौती, इन बातों का रखें ध्यान

स्वास्थ्य विभाग महामारी नियंत्रण कार्यक्रम के प्रवक्ता एवं संचालक डॉ. सुभाष मिश्रा ने कहा, केरल में केस मिलने के बाद अलर्ट जारी किया गया है। हालांकि अभी तक कोई केस रिपोर्ट नहीं हुआ है,मगर सावधानी बरतना बेहद जरूरी है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned