लइकामन से बुता करवई कतेक सही हे?

लइकामन के दुरदसा ल रोकव

By: Gulal Verma

Published: 24 Jul 2018, 06:50 PM IST

ननकू ह अपन नाननुक टूरा ल घर ले लेगिस अउ गौंटिया ल कहिस- ऐला गरवा चराय बर रख लव मालिक। गौंटिया ह खुस होगे। दस बछर के लइका ल ननकू ह बनी म लगा दिस। बछरभर म एकोकन धान अउ पइसा मिल गे। ननकू खुस, लइका ह कइसनो करय, मरे ते बांचे।
आज जम्मो डहर इही हाल हे। खेले-कूदे के बेरा म लइकामन मेहनत-मजूरी करके अपन भविस्य ल दांव म लगा देथें। दाई-ददामन ल पइसा ले मतलब हे। वोहूमन काय करंय, हालात ह मजबूर कर देथे। बालस्रम कानून के मुताबिक चौदा बछर ले पहिले मजरी या बुता करवई ह जुरूम हरय। फेर ये कानून नांवभर के रहि गे हे। ऐकर पालन कोनो नइ करंय। सहर म घलो इही हाल हे। हाथ म पइसा आय ले गलत संगत म घलो पर जथें। नसा-पानी, अपराध करे बर धर लेथें। जादा के लालच म जुरुम के चिखला म धंसत जाथें। जवान होथे त वापिस आय के रद्दा नइ बांचय। अइसन म सासन-परसासन ल बालस्रम कानून ल जोरदार ढंग ले अमल म लाय बर चाही। घर-परिवार, गांव-समाज सबो ल समझाय बर चाही। बाल मजदूरी करवइयामन के सामाजिक बहिस्कार करे बर चाही।
लइकामन के दुरदसा ल रोकव
आ जकाल नाननान लइकामन सुरक्छित नइये। वोकरमन उपर बड़ जुलुम होवत हे। वोकरमन के उपेक्छा अउ सोसन होवत हे। सरकार अउ समाज के जिम्मेदारी होथे के लइकामन चुस्त-दुरुस्त, तंदुरुस्त अउ सुरक्छित रहंय। एक डहर कतकोन घर-परिवार म सियानमन काम-बूता म बाहिर निकल जथें अउ लइकामन अक्केला पर जथें। दूसर डहर कतकोन परिवार ह गरीबी के सेती मजबूरी म लइकामन से काम-बूता करवाथें। दाई-ददामन लइकामन उपर धियान नइ देवंय। लइकामन से गुस्सा म बात करथें। कतकोन पइत लइकामन से मारपीट करथें। लइकामन उपर जादा बंदिस लगाय ले वोमन गलत संगत म पर जथें। तेकर सेती घलो बाल सोसन अउ बाल अपराध बाढ़त हे।
बाल सरमिकमन के रोजीृ-रोटी बर भटकई, बचपन म कठोर मेहनत करई, सिक्छा ले दूरिहई के कतकोन कारन हो सकथे। फेर, मूल कारन तो ऐमन ले हीनता के भावना से देखई अउ वोकरमन के उपेक्छा करईच ह आय। बाल सरमिक लइकामन ल बढिय़ा सिक्छा देय, पुनरवास करे के सपना तो सरकार ह देखाथे, फेर पूरा नइ करय।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned