रियलिटी चेक: शहर के एटीएम से पैसों के साथ कोरोना वायरस भी साथ लाने का खतरा, सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं

लॉकडाउन खत्म होने के बाद अनलॉक में अधिक छूट मिलने से आर्थिक गतिविधियां बढ़ी है, इससे प्रत्येक एटीएम में हर दिन करीब 100 से अधिक व्यक्ति आते जाते हैं। पत्रिका टीम ने बुधवार को शहर के एटीएम का जायजा लिया तो चौंकाने वाले दृश्य थे।

By: Karunakant Chaubey

Updated: 03 Jun 2020, 07:40 PM IST

रायपुर. राजधानी में कोरोना संक्रमितों की संख्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। कई दफ्तरों में वर्क फ्राम होम से काम हो रहा है वहीं दूसरी ओर राजधानी के एटीएम में कोरोना संक्रमण से रोकथाम के लिए उपाय नहीं किए गए हैं। जबकि नियमानुसार एटीएम में आने वाले लोगों के लिए सेनिटाइजर की व्यवस्था होना जरूरी है। शहर में 200 से अधिक बैंक शाखाओं के करीब 400 एटीएम हैं, लेकिन कहीं भी सुरक्षा के पुख्ता उपाय नहीं है।

लॉकडाउन खत्म होने के बाद अनलॉक में अधिक छूट मिलने से आर्थिक गतिविधियां बढ़ी है, इससे प्रत्येक एटीएम में हर दिन करीब 100 से अधिक व्यक्ति आते जाते हैं। पत्रिका टीम ने बुधवार को शहर के एटीएम का जायजा लिया तो चौंकाने वाले दृश्य थे। किसी एटीएम में न गार्ड था और न सेनिटाइजर। कहीं सेनिटाइजर की बोतल तो थी, लेकिन खाली। पेश हैं शहर के भीड़भाड़ वाले इलाकों में स्थित एटीएम की ग्राउंड रिपोर्ट....

पुरानी बस्ती : न सेनिटाइजर और न गार्ड

पुरानी बस्ती लिली चौक में यूनियन बैंक के पास ही एटीएम भगवान भरोसे हैं। यहां सुबह जब पत्रिका टीम पहुंची तो न कोई गार्ड नजर आया और न सेनिटाइजर की व्यवस्था थी। लोग बेरोकटोक एटीएम का दरवाजा खोलकर अंदर आ रहे थे और एटीएम से पैसे निकालकर जा रहे थे। गौरतलब है कि एटीएम के बाजू में इसी बैंक की शाखा है।

तेलीबांधा: सेनिटाइजर की खाली बॉटल

तेलीबांधा में भारतीय स्टेट बैंक के एटीएम में सेनिटाइजर की बोतल है। इसी के बाजू में इसका उपयोग करने की सूचना भी चस्पा है। यहां आने वाले लोग सेनिटाइजर का उपयोग करना चाह रहे थे, लेकिन बॉटल खाली थी। मॉस्क पहनकर आए लोगों ने बताया कि एटीएम में कम से कम सेनिटाइजर तो होना चाहिए।

कलेक्ट्रेट: सेनिटाइजर नहीं तो पेन से दबाए बटन

कलेक्ट्रेट परिसर में ओरियंटल बैंक ऑफ कामर्स के एटीएम में न गार्ड और न सेनिटाइजर की व्यवस्था थी। यहां एक व्यक्ति हाथ में पेन पकड़कर एटीएम की बटन दबाकर पैसा निकालते नजर आया। यहां आए लोगों का कहना है कि बैंक में कोरोना संक्रमण से बचाव की व्यवस्था होना चाहिए।

आंबेडकर अस्पताल: गार्ड नदारद, एटीएम में नींद में बच्चा

आंबेडकर अस्पताल के बाहर ओरियंटल बैंक ऑफ कामर्स के एटीएम के नजारे हैरान करने वाले थे। यहां गार्ड नदारद था और एक बच्चा सोया हुआ था। लोग इस बच्चे के पास खड़े होकर एटीएम से पैसे निकला रहे थे। यहां भी सेनिटाइजर की व्यवस्था नहीं थी।

COVID-19
Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned