अफवाहों से सावधान: एंट्री पॉइंट्स पर नहीं हो रही कोरोना जांच, सिर्फ प्रस्ताव

महामारी: जानें, संक्रमण की दूसरी लहर से बचने के लिए कितना तैयार है रायपुर

By: Nikesh Kumar Dewangan

Published: 21 Nov 2020, 06:54 PM IST

रायपुर. शहर के एंट्री पाइंट्स (प्रवेश द्वार) पर कोरोना जांच केंद्र स्थापित करने के सीएमएचओ रायपुर डॉ. मीरा बघेल के प्रस्ताव को अभी कलेक्टर डॉ. एस. भारतीदासन ने मंजूरी नहीं दी है। मंजूरी मिलेगी या नहीं, इस पर भी संदेह है। मगर, शुक्रवार को यह खबर फैल गई कि एंट्री पॉइंट्स पर कोरोना जांच के लिए हर आने वाले को रोका जा रहा है। कोरोना टेस्ट करवाया जा रहा है। मगर, सच्चाई इससे अलग है। अभी ऐसा कुछ भी नहीं हो रहा है। इसलिए आप ऐसी किसी भी अफवाह से बचें।

सीएमएचओ के प्रस्ताव पर 'पत्रिकाÓ ने शुक्रवार को ही शहर के सभी एंट्री पॉइंट पर पहुंचकर वहां के हालात देखे। कुम्हारी टोल प्लाजा, विधानसभा चौक और पचपेड़ी नाका से सर्वाधिक लोग शहर में आते हैं। इन एंट्री पॉइंट्स पर कोई रोक-टोक, जांच-पड़ताल नहीं हो रही है। मानो कोरोना का खतरा पूरा तरह से टल गया हो। सच्चाई यह है कि ये ही कोरोना के मेन एंट्री पॉइंट्स हैं। अगर, यहां से आने-जाने वालों की कोरोना जांच शुरू नहीं की गई तो हालात बेकाबू हो जाएंगे। रायपुर सीएमएचओ डॉ. मीरा बघेल के प्रस्ताव पर शुक्रवार को बैठक संभावित थी, मगर छुट्टी के कारण नहीं हो सकी।

15 मिनट में हो जाएगी जांच

आपके मन में यह सवाल जरूर उठ रहा होगा कि शहर के एंट्री पॉइंट्स पर अगर कोरोना एंटीजन टेस्ट होता है तो काफी समय लगेगा। टै्रफिक जाम होगा। मगर, ऐसा नहीं है। सीएमएचओ ने अपने प्रस्ताव में किसी को परेशानी न हो, इसका ध्यान रखा है।

उदाहरण के तौर पर...

कुम्हारी टोल प्लाजा के पास आधा किमी पहले और बाद में 2-2 जांच केंद्र होंगे। जांच में 2 मिनट, रिपोर्ट आने में 10। कुल 15 मिनट लगेंगे।

रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो सीधे आपके जिला सीएमएचओ को सूचना दी जाएगी। आपके पास संबंधित जिले के अस्पताल, कोविड केयर सेंटर और होम आईसोलेशन में रहने का विकल्प होगा।

रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट पर रूटीन जांच के साथ कोरोना टेस्ट और थर्मल स्क्रीनिंग संभव है। क्योंकि यहां यात्रियों की संख्या कम होती है।

सीएमएचओ की कलेक्टर को चि_ी

'पत्रिकाÓ ने शुक्रवार को खबर प्रकाशित कर सुझाव दिया था कि शहर के एंट्री पॉइंट्स के साथ-साथ एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की जांच जरूरी है। सीएमएचओ ने इसे लेकर फिर से कलेक्टर को चिट्टी लिखी है, ताकि वे रेलवे प्रबंधन और एयरपोर्ट अथॉरिटी को निर्देशित कर सकें।

यहां ज्यादा खतरा

रायपुर जिले की सीमाएं बलौदाबाजार-भाटापारा, गरियाबंद, बेमेतरा, दुर्ग-भिलाई और धमतरी जिले से मिलती हैं। इन जिलों के अलावा महासमुंद, बालोद, राजनांदगांव, बिलासपुर, रायगढ़, कोरबा में काफी मरीज मिल रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कहते हैं, इसलिए रायपुर को खतरा अधिक है।

प्रतिदिन 5 हजार टेस्ट की तैयारी में रायपुर

वर्तमान में रायपुर जिले में पदस्थ मेडिकल स्टाफ के जरिए रोजाना 5 हजार कोरोना सैंपल की जांच करवाई जा सकती है। क्योंकि अभी अधिकांश कोविड केयर सेंटर, हॉस्पिटल बंद हैं या लोड कम है।

Nikesh Kumar Dewangan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned