scriptBig shock to the market due to small strike | छोटी दिखती हड़ताल से बाजार को बड़ा झटका | Patrika News

छोटी दिखती हड़ताल से बाजार को बड़ा झटका

- अफसरों का दावा- मनरेगा कर्मियों की हड़ताल से 600 करोड़ से अधिक का नुकसान
- मनरेगा श्रमिकों को 11 रुपए बढ़ने से नुकसान की राशि हुई अधिक

रायपुर

Published: June 09, 2022 11:37:50 am

रायपुर. छत्तीसगढ़ में पिछले करीब 66 दिन से चली आ रही मनरेगा कर्मचारियों की हड़ताल भले ही समाप्त हो गई है, लेकिन इस हड़ताल ने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका दिया है। अधिकारियों का दावा है कि इस हड़ताल की वजह से 600 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान हुआ है। यह पैसा सीधे मजदूरों के पास से बाजार में आता है। राज्य सरकार इस हड़ताल से होने वाले नुकसान को बखूबी समझ रही थी। यही वजह है कि पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव ने दो टूक कह दिया था कि काम पर लौटे उसके बाद ही मांगों पर विचार किया जाएगा। उन्होंने दूसरे विकल्प पर विचार करने की चेतावनी भी दी थी।
छत्तीसगढ़ में गर्मी के दिनों में मनरेगा के तहत ग्रामीणों को रोजगार अधिक मिलता है। इसके बाद खेती-किसानी का समय शुरू होने और बारिश के कारण रोजगार के अवसर कम निर्मित होते हैं। जबकि इसकी अवधि ने मनरेगा के कर्मचारियों ने हड़ताल कर रखी थी। इस बुरी तरह से काम प्रभावित हुआ है। मनरेगा के तहत पंजीकृत श्रमिकाें को काम भी पर्याप्त नहीं मिला। अधिकारियों के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2022-23 में हड़ताल की वजह से दो महीने में 25 लाख मानव दिवस रोजगार की सृजित हो सके हैं। जबकि बीते वित्तीय वर्षों में यह आंकड़ा 3 से 4 करोड़ तक जाता था। इस वर्ष मनरेगा के श्रमिकों के मजदूरी दर में 11 रुपए की वृद्धि हुई है। इस हिसाब से नुकसान ज्यादा हुआ है। जानकारी के मुताबिक वित्तीय वर्ष 2021-22 में मई तक मनरेगा के कामों पर लगभग 418 करोड़ खर्च हुए थे। जबकि नए वित्तीय वर्ष के दो महीने में लगभग 152 करोड़ रुपए ही खर्च हो सके।
पलायन करने वालों की संख्या बढ़ी
जानकारों का कहना है कि बारिश के पहले ज्यादातर ग्रामीण काम की तलाश में अन्य
राज्यों में जाते हैं। इस बार मनरेगा का काम नहीं चलने की वजह से पलायन करने वालों की संख्या में वृद्धि हुई है। ट्रेनों की संख्या कम होने और आसानी से टिकट नहीं मिलने के बाद भी ग्रामीण अपने परिवार के साथ टिकट का जुर्माना कटवाकर गुजरात, दिल्ली और दक्षिण भारतीय राज्यों काम की तलाश में जा रहे हैं।
छत्तीसगढ़ को नुकसान हुआ- चौबे
मनरेगा की हड़ताल समाप्त होने से पहले मंत्री रविन्द्र चौबे ने इस बात को स्वीकार किया था कि हड़ताल से छत्तीसगढ़ को बड़ा नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा था कि दो महीने में छत्तीसगढ़ को कितना नुकसान हुआ है, उसकी कल्पना भी नहीं कर सकते। काम ठप रहा। इन महीनों में मजदूरों की संख्या 26 लाख तक होती थी। काम नहीं मिलने से केंद्र का पैसा नहीं आया और विकास के काम प्रभावित हुए।
इन कामों पर पड़ा बड़ा असर
तालाब गहरीकरण
नए तालाबों का निर्माण
सड़क निर्माण
सामुदायिक व पंचायत भवन का निर्माण
प्रधानमंत्री आवास योजना का काम
पौधरोपण के कार्य
गोठानों का निर्माण
वर्जन
इस हड़ताल से गरीबों का सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। गर्मी में ही काम की सबसे ज्यादा आवश्यकता होती है। हड़ताल समाप्त करने का फैसला पहले ही हो जाना चाहिए था, लेकिन वे विश्वास रखें कि सरकार उनके हित की चिंता करेगी।
टीएस सिंहदेव, पंचायत मंत्री
raipur
raipur

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

जयपुर में एक स्वीमिंग पूल में रात का सीसीटीवी आया सामने, पुलिसवालें भी दंग रह गएकचौरी में छिपकली निकलने का मामला, कहानी में आया नया ट्विस्टइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलचेन्नई सेंट्रल से बनारस के बीच चली ट्रेन, इन स्टेशनों पर भी रुकेगीNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयधन कमाने की योजना बनाने में माहिर होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, दूसरों की चमका देती हैं किस्मतCBSE ने बदला सिलेबस: छात्र अब नहीं पढ़ेगे फैज की कविता, इस्लाम और मुगल साम्राज्य सहित कई चैप्टर हटाए

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र का सियासी संकट जल्द खत्म होने के आसार कम! सदस्यता को लेकर बागी विधायक कर सकते है कोर्ट का रुखMaharashtra Political Crisis: वडोदरा में आधी रात को देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच हुई थी मुलाकात, सुबह पहुंचे गुवाहाटीMumbai News Live Updates: शिवसेना ने मुखपत्र 'सामना' के जरिए बागियों पर साधा निशाना, कहा-बगावत करने वालों का सियासी करियर हुआ खत्मBy-Elections 2022: तीन लोकसभा और सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के नतीजे आजमेरे पास ममता बनर्जी को मनाने की ताकत नहीं: अमित शाहपंजाब: भ्रष्टाचार के आरोप में गिरफ्तार IAS के बेटे ने खुद को गोली मारी, अधिकारी की पत्नी ने विजिलेंस टीम पर लगाया हत्या का आरोपMann Ki Baat : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 'मन की बात' कार्यक्रम को करेंगे संबोधितसरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर का निधन, पाकिस्तान की जेल में बंद भाई को भारत लाने के लिए छेड़ी थी मुहिम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.