आर्थिक तंगी बनी किसान के आत्महत्या का कारण, बेटी की शादी के लिए लिया था कर्ज

- भाजपा जांच दल ने प्रदेश अध्यक्ष को सौंपी रिपोर्ट
- मृतक को बीमार बताने दबाव डालने का आरोप

By: Bhupesh Tripathi

Published: 25 Jan 2021, 11:25 PM IST

रायपुर. अभनपुर के आमदी गांव में किसान रामनारायण निषाद की आत्महत्या मामले में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय द्वारा गठित 3 सदस्यीय जांच दल की रिपोर्ट आ गई है। पूर्व कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहू के नेतृत्व वाले जांच दल की रिपोर्ट में उल्लेख है कि किसान कर्ज में डूबा हुआ था। उसने बेटी की शादी के लिए कर्ज लिया था। आर्थिक तंगी आत्महत्या की वजह बनी।

सोमवार को एकात्म परिसर स्थित पार्टी कार्यालय में पूर्व कृषि कृषि मंत्री, किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष गौरीशंकर श्रीवास और रायपुर ग्रामीण अध्यक्ष अभिनेश कश्यप ने संयुक्त रूप से प्रेस कांफे्रंस की। पूर्व कृषि मंत्री ने कहा, मृतक किसान ने बेटी की शादी के लिए अलग-अलग समूहों से 1.30 लाख का कर्ज लिया था। साहूकारों से भी 50 हजार रुपए कर्ज लिया। सोसाइटी में 21 क्विंटल धान बेचकर 39,601 रुपए मिले, मगर 24,133 रुपए सहकारी बैंक में कर्ज था, जो काट लिया गया। संयुक्त परिवार की पूरी जिम्मेदारी रामनारायण पर ही थी। उसकी मानसिक स्थिति बिल्कुल ठीक थी। मगर, पुलिस ने यह दबाव डालने की कोशिश की कि वे लिखवाएं कि रामनारायण बीमार था, उसे शुगर से पीड़ित था।

gauri.jpg

विधवा को थाने बुलाया गया, वह भी 30 किमी दूर। पूर्व कृषि मंत्री ने कहा कि ये घटनाएं कांग्रेस सरकार के कर्जमाफी समेत धान संबंधी दावों की पोल खोलती हैं। इन्हीं किसानों ने कांग्रेस के वादों पर भरोसा कर उन्हें सत्ता तक पहुंचाया था। गौरी शंकर श्रीवास ने कहा कि हम सरकार से मृतक किसान के परिजनों के लिए २५ लाख अनुग्रह राशि की मांग करते हैं।

सीएम अपनी टिप्पणी वापस लें: चंद्रशेखर
पूर्व कृषि मंत्री चंद्रशेखर साहू ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बयान को आड़े हाथों लेते हुए कहा, कि किसान की आत्महत्या कोई छोटा मामला नहीं है। मुख्यमंत्री ने अशिष्ट भाषा में बात की है। अगर, वे अपनी टिप्पणी वापस नहीं लेते हैं तो गांधी निर्वाण दिवस के दिन भाजपा मौन सत्याग्रह करेगी।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned