बोर्ड परीक्षा से पहले 10वीं क्लास के स्टूडेंट्स के लिए राहत की खबर: CBSE ने लिया ये बड़ा फैसला

- सीबीएसई ने 10वीं कक्षा के छात्रों को दी बड़ी राहत
- छात्रों की सहूलियत के मद्देनजर सिलेबस में की कटौती

By: Ashish Gupta

Updated: 25 Feb 2021, 11:34 AM IST

रायपुर. सीबीएसई (CBSE) ने 10वीं कक्षा के छात्रों को राहत देते हुए सामाजिक विज्ञान सिलेबस कम कर दिया है। सीबीएसई ने 10वीं की बोर्ड परीक्षा (Board Exam 2021) में छात्रों की सहूलियत के मद्देनजर सिलेबस में यह कटौती की है। रिवाइज्ड किया गया सिलेबस सीबीएसई की आधिकारिक वेबसाइट पर देखा जा सकता है।

10वीं कक्षा में सामाजिक विज्ञान विषय के अंतर्गत इतिहास, भूगोल, राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र पर आधारित प्रश्न पूछे जाते हैं। सीबीएसई 10वीं का सामाजिक विज्ञान का बोर्ड टेस्ट पेपर 27 मई को आयोजित किया जाएगा। सामाजिक विज्ञान थ्योरी के टॉपिक्स से छात्रों के लिए पांच यूनिट हटाई गई हैं।

Jobs: जल्दी ही 291 वनरक्षकों की होगी भर्ती, वन विभाग ने वित्त विभाग को भेजा प्रस्ताव

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक कोरोना महामारी के कारण इस वर्ष स्कूलों के कार्य दिवस काफी कम हो गए हैं। अधिकांश छात्रों को ऑनलाइन माध्यमों से ही शिक्षा प्रदान की गई है। ऐसे में अब स्वयं छात्र, अभिभावक और शिक्षक भी छात्रों के पाठ्यक्रम को कम किए जाने किए जाने के पक्षधर हैं।

इससे पहले केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक कह चुके हैं, "कोरोना के कारण पूरे देश में उत्पन्न हुए असाधारण स्थिति को देखते हुए सीबीएसई को सलाह दी गई है कि वह अपने पाठ्यक्रम का पुनर्निधारण करें और सिलेबस को कम किया जाए।"

केंद्रीय शिक्षा मंत्री द्वारा सिलेबस को कम किए जाने का निर्देश देने के बाद सीबीएसई ने विभिन्न विषयों में 30 फीसदी तक सिलेबस घटाया था। वह पाठ्यक्रम अब होने वाली बोर्ड परीक्षाओं और आतंरिक मुल्यांकन के लिए निर्धारित विषयों का हिस्सा नहीं होगा।

इंडियन आर्मी में भर्ती होने का सुनहरा मौका: जानें कहां और कैसे करें अप्लाई

विद्यालय प्रमुख और अध्यापक विभिन्न विषय संयोजित करने के लिए विद्यार्थियों को घटाई गई विषय-वस्तु की भी व्याख्या करना सुनिश्चित करेंगे। संशोधित पाठ्यक्रम सीबीएसई की शैक्षणिक वेबसाइट पर उपलब्ध है।

शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक कोरोना महामारी के मद्देनजर पूरे देश के शिक्षाविदों से सिलेबस में कटौती के विषय पर ठोस सुझाव आमंत्रित किए गए थे। इस विषय पर देश भर के 15 सौ से अधिक शिक्षाविदों ने अपने सुझाव भेजे हैं।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned