नौकरी के बहाने लड़की ने क्लर्क से बढ़ाई दोस्ती, Call कर बुलाई सुनसान जगह फिर जो हुआ...

नौकरी के बहाने लड़की ने क्लर्क से बढ़ाई दोस्ती, Call कर बुलाई सुनसान जगह फिर जो हुआ...

Ashish Gupta | Publish: May, 04 2019 08:40:50 PM (IST) | Updated: May, 04 2019 08:42:48 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक क्लर्क को नौकरी मांगने आई एक लड़की से दोस्ती करना भारी पड़ गया। लड़की ने क्लर्क से पहले दोस्ती की और फिर उसे अपने जाल में फंसा लिया। इसके बाद लड़की ने अश्लील वीडियो की धमकी देकर अपने ब्वॉड फ्रेंड और सीएएफ जवान की मदद से क्लर्क की कार लूट ली।

रायपुर. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक क्लर्क को नौकरी मांगने आई एक लड़की से दोस्ती करना भारी पड़ गया। लड़की ने क्लर्क से पहले दोस्ती की और फिर उसे अपने जाल में फंसा लिया। इसके बाद लड़की ने अश्लील वीडियो की धमकी देकर अपने ब्वॉड फ्रेंड और सीएएफ जवान की मदद से क्लर्क की कार लूट ली। क्लर्क ने इसकी शिकायत पुलिस में की। इसके बाद पुलिस ने युवती, उसके प्रेमी और सीएएफ के प्रधान आरक्षक को गिरफ्तार कर लिया है।

ये है पूरा मामला

पुलिस के मुताबिक दिलीप सिंह कंवर सिंचाई विभाग में क्लर्क के पद पर है। करीब 15 दिन पहले रायपुर के राजातालाब की रेणुका साहू उसके पास पहुंची और आउटसोर्सिंग के जरिए विभाग में क्लर्क की नौकरी के लिए संपर्क किया। दिलीप ने बॉयोडाटा लिया और नौकरी लगवाने का आश्वासन दिया। इस दौरान दोनों ने एक-दूसरे का मोबाइल नंबर दिया। फिर दोनों के बीच बातचीत होने लगी। वाट्सएप चैटिंग भी होने लगी।

इसके बाद गुरुवार की शाम करीब 7 बजे रेणुका ने दिलीप को फोन किया और नया बॉयोडाटा के बहाने मैग्नेटो मॉल के पास बुलाया। दिलीप अपनी शिफ्ट कार लेकर मैग्नेटो मॉल के पास पहुंचा। वहां रेणुका मिली। इसके बाद दोनों अटल नगर घूमने चले गए। ग्राम चीचा के पास दोनों सुनसान स्थान में कार खड़ी करके बातचीत कर रहे थे।

latest crime news

इसी दौरान कार में छत्तीसगढ़ आम्र्स फोर्स (सीएएफ) का प्रधान आरक्षक रंजीत सिंह और सूरज यादव पहुंचे। दोनों ने खुद को क्राइम ब्रांच का जवान बताते हुए रेणुका और दिलीप का वीडियो बनाना शुरू कर दिया। इससे दिलीप घबरा गया। इसके बाद दोनों दिलीप से मारपीट शुरू कर दी और युवती के साथ अश्लील हरकत करते हुए वीडियो बनाने की धमकी देने लगे।

इसके बाद दिलीप की कार रंजीत ले लिया और उसे पीछे बैठा दिया। रेणुका सूरज के साथ दूसरे कार में बैठ गई। इसके बाद चारों शहर पहुंचे और मोतीबाग होते हुए एक ट्रांसपोर्टर के पास पहुंचे। वहां से वाहन ट्रांसफर करने का फार्म 29, 30 लिया। दिलीप की कार को रंजीत ने अपने नाम ट्रांसफर करवाने के लिए फार्म उसके हस्ताक्षर करवाया। इसके बाद उसे घर के पास छोड़कर कार ले गया। साथ ही उसके पर्स, नगदी व अन्य सामान भी ले गया।

रंजीत की थी प्लानिंग
पुलिस के मुताबिक पूरी घटना प्लानिंग के तहत हुई थी। दिलीप और रेणुका के बीच लंबी बातचीत होती थी। रेणुका ने इसकी जानकारी अपने प्रेमी सूरज को दी। सूरज ने इसकी जानकारी रंजीत को दी। सूरज और रंजीत दोस्त हैं। इसके बाद रंजीत ने दिलीप को फंसाकर वसूली की योजना बनाई।

इसके तहत रेणुका को कहा गया कि वह दिलीप से बातचीत करती रहे और उसे सूनसान स्थान में बुलाए। रेणुका ने वैसा ही किया और दिलीप को रात में अटल नगर बुलाया। और आपत्तिजनक स्थिति में पकड़कर कार लूटकर ले गए। बताया जाता है कि आरोपी और पैसों की डिमांड कर रहे थे।

दस्तावेज की मांग की, तो पहुंचे थाने
दिलीप को घर छोड़ने के बाद दूसरे दिन रंजीत ने उसे फोन किया और कार के दस्तावेज मंगाने लगा। इससे दिलीप परेशान हो गया। उसने अपने परिवार के सदस्यों को इसकी जानकारी दी। इसके बाद मंदिरहसौद थाने में शिकायत की। शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों के खिलाफ लूट, साजिश के तहत मामला दर्ज किया गया है। तीनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned