पौधे लगाने का ऐसा जुनून कि भाई-बहन ने मिलकर घर को बना दिया मिनी गार्डन

- घर के बाहर की दीवार और बेडरूम तक में पौधे मौजूद
- वेस्ट ऑफ द बेस्ट तकनीक का किया इस्तेमाल
- लोगों को पर्यावरण संरक्षण का दिया संदेश

By: Ashish Gupta

Published: 03 Jan 2021, 12:07 PM IST

रायपुर. छत्तीसगढ़ के अभनपुर के पारागांव में एक घर ऐसा भी है, जिसे ऑक्सीजोन या मिनी गार्डन कहा जा सकता है। घर में रहने वाली रवीना देवांगन और उसके भाई डाकेश्वर ने लगातार बिगड़ रहे पर्यावरण प्रदूषण से चिंतित होकर पौधरोपण के महत्व को जानते हुए घर में ही इसे अंजाम दिया है। घर का शायद ही ऐसा कोई कोना हो, जहां पौधे मौजूद ना हो। यहां तक कि घर के बाहर की दीवार और बेडरूम तक में पौधे मौजूद हैं।

garden.jpg

बड़ी बात यह है कि पौधे लगाने के लिए भाई-बहन की जोड़ी ने वेस्ट से बेस्ट तकनीक का भी इस्तेमाल किया है। फिर चाहे दवाइयों की खाली शीशियां हों या फिर पानी की बोतल, डिस्पोजल या प्लास्टिक के डिब्बे हों। इतना ही नहीं, साइकिल के पहिए के खराब रिंग और मोटरसाइकिल के खराब टायरों का भी बेहतर इस्तेमाल किया गया है।

garden_news.jpg

पौधे लगाने का ऐसा जुनून कि भाई-बहन ने घर के बाहर अलग से नालीनुमा निर्माण कर उस पर भी पौधे रोपे हैं। रंग-बिरंगे फूलों वाले और खुशबूदार प्रजातियों के पौधों के कारण घर के भीतर का वातावरण काफी सुकून देने वाला लगता है और ऐसा लगता है मानो किसी गार्डन या ऑक्सीजोन में आ गए हों। रवीना, अन्य लोगों को भी पौधरोपण के महत्व को स्वीकार कर प्रकृति की रक्षा के लिए पौधरोपण की शुरुआत अपने घर से करने की अपील करती हैं।

raipur_home_garden_news.jpg

रवीना देवांगन ने बताया कि उन्हें ऐसा करने की प्रेरणा उनकी मैम मंजू देवांगन से मिली। रवीना की अपील इसलिए भी ध्यान देने योग्य है, क्योंकि प्लास्टिक वेस्ट को जलाने से वायुमंडल में स्थित ओजोन परत को नुकसान पहुंचता है। ओजोन परत हानिकारक पराबैंगनी विकिरण को धरती तक आने से रोकती है, अगर ओजोन परत क्षतिग्रस्त हो गई तो मानव जीवन संकट में पड़ जाएगा। ऐसे में हर किसी को इन दोनों भाई-बहनों की तरह स्वप्रेरित होकर पर्यावरण को बचाने इसी प्रकार की पहल करनी होगी।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned