पुलिस परेड ग्राउंड में फिटनेस टेस्ट में पहुंची बसों के साथ चालकों का भी हुआ टेस्ट

पुलिस परेड ग्राउंड में फिटनेस टेस्ट में पहुंची बसों के साथ चालकों का भी हुआ टेस्ट

Deepak Sahu | Updated: 15 Jul 2018, 02:51:14 PM (IST) Raipur, Chhattisgarh, India

स्कूल द्वारा अनफिट वाहनों का संचालन किया जा रहा है जिसके कारण कई मासूमों की जान खतरे में होती है

रायपुर. कुछ दिनों पहले हाइकोर्ट ने एक गाइडलाइन जारी की थी जिसके तहत सभी स्कूल व कॉलेजों के वाहनों की जांच की जाएगी और जांच में अगर बस में कमियां पाई गई तो बस का परमिट रद्द कर दिया जाएगा। इसके तर्ज पर राजधानी में पुलिस परेड ग्राउंड पर गाडि़यों की जांच शिविर का आयोजन किया गया है।

READ MORE: School बसों में बच्चों को भेजने से पहले जरूर चेक करले परिवहन विभाग का ये Certificate, वरना

पुलिस परेड ग्राउंड में इससे पहले भी दो बार जांच शिविर का आयोजन किया जा चुका है जिसमें काफी बसें उपस्थित नही हुई थी। हाईकोर्ट के निर्देश के बाद सभी गाडि़यों का जांच अनिवार्य हो गया है जिसके बाद बाकी बसें भी जांच के लिए उपस्थित हुई है।

 

bus fitness test

यहां पर गाडि़यों की मैकनिकल जांच, दस्तावेजों की जांच व चालक की फिटनेस की जांच की जाएगी। हाईकोर्ट के आदेश पर बसों के अलावा चालकों के नेत्र परीक्षण, आरटीओ, एमटीओ आदि की जांच की गई।

READ MORE: Video: पिछली बार शिविर में नहीं पहुंची स्कूल बसों की जांच के लिए दोबारा लगाया गया कैंप

यहां निरीक्षक सुरेन्द्र श्रीवास्तव की उपस्थिति में शकुंतला विद्यालय, माइल स्टोन स्कूल, कृष्णा पब्लिक स्कूल, अपोलो कॉलेज आदि से करीब ७० बसें उपस्थित हुई। इनकी जांच का एक कारण अवैध रूप से चल रहे बसों की सेवाओं को रोकना भी था।

 

bus fitness test

नो फिट नो एनओसी
स्कूल द्वारा अनफिट वाहनों का संचालन किया जा रहा है जिसके कारण कई मासूमों की जान खतरे में होती है। इसलिए शहर में वाहनों का फिटनेस अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान में बसों की व बस चालकों दोनों की फिटनेस की जांच की गई है। जिन बसों में कोई गड़बड़ी पाई परिवहन विभाग ने उन बसों को एनओसी देने से मना कर दिया है।

अनफिट वाहन

स्कूल संचालकों द्वारा अनफिट बसों का संचालन किया जा रहा है। फिटनेस जांच के दौरान ही इसकी वास्तविकता सामने आती है। गौरतलब है कि 2017 में पुलिस और परिवहन विभाग द्वारा संयुक्त रुप से शिविर का आयोजन किया गया था। इस दौरान करीब 250 छोटी-बड़ी वाहनों की जांच की गई थी। इसमें से 55 बस में गड़बड़ी मिली थी।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned