जीरो बैलेंस में भी पैसा कटने से कारोबारी ने गूगल से निकाला बैंक का नंबर, कॉल करते ही हुआ ठगी का शिकार

- कपड़ा कारोबारी से 5 लाख से ज्यादा की ऑनलाइन ठगी .
- पुलिस ने दर्ज किया अपराध .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 19 Sep 2020, 08:54 PM IST

रायपुर . पंडरी कपड़ा मार्केट का एक कारोबारी लाखों रुपए की ऑनलाइन ठगी का शिकार हो गया। उनके फर्म के नाम से खुल बैंक खाता से जीरो बैलेंस पर भी राशि कट रही थी। इसकी जानकारी लेने के लिए कारोबारी ने गूगल सर्च से बैंक का संपर्क नंबर निकाला। और उसमें कॉल करके बैंक खाते की जानकारी दी। इसके कुछ देर बाद ही उनके खाते से ५ लाख रुपए से अधिक निकल गए। इसकी शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात ऑनलाइन ठग के खिलाफ अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

पुलिस के मुताबिक विधानसभा इलाके में रहने वाले नरेंद्र कुमार चौधरी की पंडरी कपड़ा मार्केट में चौधरी गारमेंट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से कारोबार है। 17 सितंबर को उनके मोबाइल में एक मैसेज आया, जिसमें उनके खाते से 708 रुपए जीरो बैलेंस में कटने की जानकारी थी। अगले दिन इसकी जानकारी लेने के लिए कारोबारी ने गूगल में सर्च करके अपने बैंक कोटक महेंद्रा बैंक का कंपलेंट नंबर निकाला। इसमें कॉल किया। कॉल नहीं लगा। कुछ देर बाद एक व्यक्ति ने दूसरे नंबर से कॉल किया और खुद को बैंक का कर्मचारी बताया।

उसने कारोबारी से कहा कि आपका बैंक खाता ऑनलाइन अपडेट कर देंगे। यह कहकर उसने कारोबारी से बैंक खाता की जानकारी मांगी। कारोबारी चौधरी ने अपना बैंक खाता नंबर और अन्य जानकारी दे दी। इसके कुछ देर बाद एक ओटीपी नंबर आया। कथित बैंक कर्मचारी ने ओटीपी नंबर भी पूछा।कारोबारी ने ओटीपी नंबर बता दिया। इसके कुछ देर बाद 11 बार में उनके बैंक खाते 5 लाख 35 हजार 292 रुपए का आहरण हो गया। इससे उन्हें ठगी का एहसास हुआ। उन्होंने बैंक और पुलिस में शिकायत की। देवेंद्र नगर पुलिस ने अज्ञात ठग के खिलाफ धोखाधड़ी का अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

गूगल सर्च में ठग सक्रिय
गूगल सर्च इंजन में कई ठग सक्रिय हैं, जो बैंक, कोरियर सर्विस, गैस एजेंसी आदि जैसी कई उपयोगी एजेंसियों के नाम से अपना मोबाइल नंबर दे रखा है। लोग इन फर्जी नंबरों को संबंधित एजेंसी का नंबर समझकर फोन करते हैं। इसके बाद ठग खुद को उस एजेंसी या कंपनी का कर्मचारी बताकर ठगी करते हैं। रायपुर में इस तरह की दर्जन भर से अधिक ठगी के मामले सामने आ चुके हैं। इसके बावजूद लोग सावधानी नहीं बरत रहे हैं।

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned