सीडी कांड की सुनवाई छत्तीसगढ़ से बाहर दूसरे हाईकोर्ट में ट्रांसफर करने के लिए सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई याचिका

सुप्रीम कोर्ट का फैसला सीबीआई के पक्ष में आता है तो अश्लील सीडी कांड मामले की सुनवाई दूसरे राज्य के कोर्ट में ट्रांसफर की जा सकती है। सीबीआई ने कानून में उसे प्रदत्त अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए यह याचिका दाखिल की है, जिस पर सुनवाई करने का अधिकार सिर्फ सुप्रीम कोर्ट को ही है।

रायपुर. छत्तीसगढ़ की राजनीति में भूचाल लाने वाले पूर्व मंत्री राजेश मूणत के कथित अश्लील सीडी कांड मामले की सुनवाई छत्तीसगढ़ के बाहर किसी दूसरे हाईकोर्ट में ट्रांसफर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है। सीबीआई ने चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली तीन जजों की बेंच में अर्जी लगाई है।


अब इस सीडी कांड मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है। इस महीने की 21 तारीख को पहली सुनवाई होनी है। सीआरपीसी की धारा 406 के तहत सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में आवेदन दिया है। इस पर सिर्फ सुप्रीम कोर्ट को सुनवाई का अधिकार है। इसमें सुप्रीम कोर्ट एक हाईकोर्ट से दूसरे हाईकोर्ट या हाईकोर्ट के अधीन किसी दूसरे कोर्ट के समान कोर्ट में प्रकरण की सुनवाई के लिए ट्रांसफर कर सकता है।


दरअसल मामले की जांच कर रही केंद्रीय एजेंसी ने हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल करके यह मांग की है कि सीडी कांड मामले की सुनवाई छत्तीसगढ़ के बाहर किसी अन्य राज्य के कोर्ट में ट्रांसफर कराई जाए।


यदि सुप्रीम कोर्ट का फैसला सीबीआई के पक्ष में आता है तो अश्लील सीडी कांड मामले की सुनवाई दूसरे राज्य के कोर्ट में ट्रांसफर की जा सकती है। सीबीआई ने कानून में उसे प्रदत्त अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए यह याचिका दाखिल की है, जिस पर सुनवाई करने का अधिकार सिर्फ सुप्रीम कोर्ट को ही है। इसके तहत सुप्रीम कोर्ट हाईकोर्ट को संबंधित केस ट्रांसफर करने के लिए निर्देशित कर सकता है।


बता दे कि 27 अक्टूबर 2017 को कथित तौर पर मंत्री वाली उक्त अश्लील सीडी का मामला छत्तीसगढ़ में सामने आया था। उस वक्त तत्कालीन पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल के बंगले से इस मामले की शुरुआत हुई। उन्होंने सुबह अपने बंगले में एक प्रेस वार्ता आयोजित कर मीडिया को एक सीडी बांटी। इस सीडी में एक आपत्तिजनक वीडियो था, जिसे लेकर दावा किया गया कि महिला के साथ बेहद आपत्तिजनक स्थिति में दिखने वाला व्यक्ति मंत्री राजेश मूणत है। इसके तहत जमकर हंगामा मचा था और मंत्री राजेश मूणत ने इस मामले में थाने में मामला भी दर्ज कराया था।

तत्कालीन मंत्री राजेश मूणत ने इसका खंडन करते हुए सीडी को फर्जी बताया था और मुख्यमंत्री से इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच कराए जाने की मांग की थी। इस मामले में पुलिस ने विनोद वर्मा को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया था। पुलिस ने यह दावा भी किया कि विनोद वर्मा के निवास से इस वीडियो क्लिप की 500 सीडी और 2 लाख रुपए जब्त किए गए हैं।

Show More
bhemendra yadav
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned