समितियों में न सिस्टम अपडेट हुआ, न ही आदेश मिला

धान खरीदी नहीं होने से फिर मायूस लौटे किसान

By: Gulal Verma

Published: 01 Mar 2020, 04:50 PM IST

बेमेतरा। जिले के जिन धान खरीदी केन्द्रों में टोकन जारी किए जाने के बाद किसानों का धान लिया जाना शेष है, वहां पर सिस्टम में अपडेट व लिखित आदेश आने का इंतजार किया जा रहा है। शासन की घोषणा के बाद शुक्रवार को धान तौल करने के लिए समिति पहुंचे किसानों का कोपभाजन का शिकार समिति के कार्यरतों को होना पड़ा। वहीं उम्मीद लेकर पहुंचे किसानों को मायूस होकर एक बार फिर वापस लौटना पड़ा।
जिले के 29 उपार्जन केन्द्रों (कुवंरा, सम्बलपुर, नांदघाट, टेमरी, पुटपुरा, हटहाडाण्डू, मारो, रनबोड़, झाल-एन, बदनारा, छिरहा, डूण्डा, कुरदा, खण्डसरा, झाल-बी, मोहतरा, लोलेसरा, चंदनू, मोहभ_ा, देवरबीजा, कन्हेरा, भिम्भौरी, दाढ़ी, उमरिया, देवकर, गाड़ाडीह, मुरता, रनबोड़, खुड़मुड़ा) में 8427 कृषकों को जारी किए गए टोकन में तीन लाख 42 हजार क्ंिवटल धान की खरीदी की जानी है। गुरुवार को शासन द्वारा की गई घोषणा के बाद किसानों का फड में रखे धान का शुक्रवार को तौल व खरीदी किए जाने की उम्मीदे जगी थी। सुबह से ही किसान केन्द्रों में पहुंचे थे, पर समितियों के सिस्टम में अपडेट नहीं मिलने की वजह से किसानों के धान का न तौल हुआ, न बारदान पहुंचा है। लिहाजा पूर्व की तरह स्थिति कायम है।
डुडा समिति में सैकड़ों किसानों ने किया प्रदर्शन
जिला मुख्यालय से 5 किलोमीटर दूर शुक्रवार को सैकड़ों किसान धान तौल करने के लिए पहुंचे थे। उपस्थित स्टाप द्वारा आदेश नहीं आने व बारदान नहीं होने की बात कहने पर किसानों ने जमकर नारेबाजी की और कक्ष के बाहर खड़े होकर केन्द्र को घेर कर प्रदर्शन किया। किसानों की नाराजगी को देखते हुए पुलिस बल बुलाए जाने की तैयारी की जा रही थी कि किसान अंत में मान गए। बताना होगा कि इस केन्द्र के सामने किसान पूर्व में चक्काजाम कर प्रदर्शन कर चुके हैं। आज फिर किसानों के कोपभाजन का शिकार समिति के कर्मचारियों को होना पड़ा। केन्द्र में अब भी 400 से अधिक किसानों का धान लिया जाना शेष है।
केन्द्रों में बारदाना व परिवहन संकट बरकरार
जिले के केन्द्रों में आने वाले दिनों में पूर्ण धान खरीदी के लिए 5 लाख 50 हजार से अधिक बारदाने की दरकार है। इसके अलावा खरीदे गए धान मे ंसे 56 फीसदी धान का परिवहन हो पाया है। 43 फीसदी धान केंद्रों ही है। जिसे देखते हुए उठाव में गति लाने की दरकार है। जिसके बाद केन्द्रों मे समस्याओं का अंत हो सकेगा। फिलहाल घोषणा के बाद केन्द्रों में लाक किए गए सिस्टम को शुरू शुरू होने व आदेश का इंतजार किया जा रहा है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned