प्रतिबंध के बाद भी जोंक नदी में रेत का खुलेआम उत्खनन

दूसरे जिले में रेत भेज रहे माफिया

By: Gulal Verma

Published: 14 Oct 2020, 04:51 PM IST

कटगी। सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकृति खदानों से रेत निकालने के लिए 15 अक्टूबर तक रोक लगाई है। बावजूद रामपुर, कोट व डेराडीह के घाटों में रेत का अवैध उत्खनन बदस्तूर जारी है। प्रतिदिन सैकड़ों ट्रैक्टर रेत परिवहन व भंडारण किया जा रहा है। माफिया दूसरे जिलों में भी रेत का खुलेआम परिवहन कर रहे हैं। राज्य सरकार ने खदानों का ओपन ठेका कर दिया है। इसके साथ ही रेत की कीमत भी तय कर दी है। लेकिन, शासन के तमाम बंदिशों के बाद भी रेत की कीमतें में दिनोदिन बढ़ोतरी हो रही है। रेत माफिया अपनी कीमत पर रेत की लोडिंग करवाते हैं और बिना पिट पास के ही वाहन गांवों से निकल रहे हैं। ओवरलोड वाहनों से गांव की सड़कों खराब हो रही हैं।
22 से 29 अक्टूबर तक जिले में पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया था लेकिन रेत माफियाओं को कोई फर्क नहीं पड़ा। वहीं, अनुविभागीय राजस्व अधिकारी व विहित प्राधिकाटी कसडोल टीसी अग्रवाल ने पंचायत राज अधिनियम धारा 40 के तहत ग्राम पंचायत डेराडीह की सरपंच जोईश चौहान, ग्राम पंचायत हसुवा की सरपंच टामेश्वरीी साहू, ग्राम पंचायत बलौदा की सरपंच निधि सिंह, ग्राम पंचायत कोट रामपुर के सरपंच शंकरलाल कैवत्र्य को नोटिस जारी किया था।


गांव के सरपंचों को नोटिस मिला है। अगर वह कार्रवाई नहीं करते तो बड़ी दिक्कत होगाी, जो नहीं होना चाहिए वह होगा। एफ आईआर दर्ज करेंगे। पुलिस कार्रवाई भी होगी।
- एम. चंद्रशेखर, जिला खनिज अधिकारी, बलौदाबाजार

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned