सड़क चौड़ीकरण के नाम पर काटे गए पेड़ों के स्थान पर पौधरोपण नहीं

रोपने थे 35 सौ पौधे, न ठेकेदार ने ध्यान दिया, न विभागीय अधिकारियों ने

By: Gulal Verma

Published: 22 Oct 2020, 03:39 PM IST

बलौदा बाजार। जिला मुख्यालय बलौदा बाजार के आसपास बीते कुछ सालों में एडीबी के द्वारा बनाई गई सड़कें गुणवत्ताहीन निर्माण की वजह से जिलेवासियों के लिए सुविधा की जगह सिरदर्द साबित हो गई हैं। बीते तीन-चार सालों के दौरान लवन रोड, भाटापारा रोड के निर्माण के कुछ ही दिनों बाद सड़क कई स्थानों से दबकर खराब हो गई है। वहीं, सड़क चौड़ीकरण के नाम पर बलौदा बाजार-कसडोल मार्ग पर काटे गए पेड़ों के स्थान पर संबंधित ठेकेदार द्वारा अब तक पौधारोपण नहीं किया गया है।
विदित हो कि बलौदा बाजार-लवन-कसडोल-गिधौरी सड़क निर्माण कार्य वर्ष 2014-15 में लोक निर्माण विभाग छत्तीसगढ़ राज्य सड़क क्षेत्र परियोजना के अंतर्गत स्वीकृत हुआ था।, जो सड़क वर्ष 2018 में बनकर तैयार हो चुकी है। सड़क की लंबाई 49.041 किलोमीटर है। इसकी लागत 124.04 करोड़ रुपए थी जो कि उस समय 42 प्रतिशत अधिक दर में स्वीकृत की गई थी।
सड़क निर्माण प्रारंभ होते समय दोनों किनारों पर छायादार वृक्ष लहलहा रहे थे, जिसे सड़क चौड़ीकरण के नाम पर काट दिया गया था। संबंधित ठेकेदार को इसके बदले में किनारों पर पौधरोपण किया जाना था, ताकि पर्यावरण को क्षति ना पहुंचे। इस सड़क के दोनों किनारों में लगभग 3500 फलदार व छायादार पौधे लगाने के लिए ठेकेदार को सड़क निर्माण के ठेके के साथ अनुबंध किया गया था तथा परियोजना प्रबंधक ने उद्यान अधीक्षक शासकीय उद्यान रोपणी कसडोल को अपने पत्र के माध्यम से 3500 पौधे ठेकेदार को प्रदान करने के लिए अनुरोध भी किया था। परंतु, अब तक ना तो ठेकेदार द्वारा निर्धारित अनुबंध के अनुसार पौधरोपण किया और ना ही अधिकारियों ने कभी यह जानने की कोशिश भी की कि अब तक सड़क किनारे पौधरोपण क्यों नहीं किया गया है। सड़क बन जाने के 2.3 वर्षों बाद सड़क किनारे अवांक्षित बबूल के कांटेदार वृक्षों के अतिरिक्त कोई भी फलदार या छायादार वृक्ष दिखाई नहीं देता है। जिससे इस मार्ग में ग्रीष्मकाल में चलने वाले राहगीरों को रुकने के लिए किसी पेड़ की छांव भी नसीब नहीं होती है।

विभागीय अधिकारी का कहना है
एडीबी के कार्यों के संबंध में एडीबी के कार्यपालन अभियंता डी.कुमार ने कहा कि वे फिलहाल बलौदा बाजार में नहीं हैं। इस वजह से पूर्व के कार्यों के संबंध में बगैर विभागीय फाइल देखे कुछ नहीं बता सकते हैं।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned