दो वर्ष से बीमार जीवनदास को मदद की दरकार

विधायक से लेकर मुख्यमंत्री तक कर चुका है फरियाद

By: Gulal Verma

Published: 27 Oct 2020, 04:38 PM IST

मुड़ागांव (कोरासी)। जब इंसान शारीरिक रूप से स्वस्थ होता है तो अपने मेहनत के बलबूते सब कुछ हासिल कर सकता है। लेकिन, यही शरीर अस्वस्थ हो जाए तो इंसान का जीवन नर्क बन जाता है। आज आपको एक ऐसे युवा के बारे में बताने जा रहे हैं, जो कुछ साल पहले मेहनत कर हंसी खुशी जिंदगी जी रहे थे, लेकिन एक हादसे ने उनकी जिंदगी को तबाह कर दिया।
छुरा से 15 किलोमीटर दूर बोईरगांव निवासी जीवन दास मानिकपुरी (25) शारीरिक अस्वस्थता के चलते 2 साल से बिस्तर पर पड़ा जीवन और मौत से संघर्ष कर रहा है। 17 फरवरी 2019 को जीवन दास छुरा सेम्हरा से मोटरसाइकिल से घर वापस आ रहा था। तभी अज्ञात चार पहिया वाहन ने उसे टक्कर मार दी। जिससे जीवन दास की रीढ़ की हड्डी फैक्चर हो गया रायपुर की राजधानी हॉस्पिटल में उनका इलाज हुआ। जीवन दास का जीवन तो बच गया, लेकिन सीने से लेकर पैर तक का हिस्सा पूरी तरह से काम करना बंद कर दिया। जिसके कारण वह 2 वर्षों से बिस्तर में पड़े अपने जीवन से जूझ रहे हैं। आर्थिक तंगी से जूझ रहे जीवन दास के माता- पिता ने बताया कि इलाज के लिए सब जमा पूंजी, गहने खत्म हो गया। लाखों रुपए खर्च हो गए, लेकिन उनका बेटा अभी तक ठीक नहीं हो पाया।
जीवन दास की मां पार्वती ने बताया कि इलाज में बहुत सारे पैसे खर्च हो गए उनके बेटे के इलाज के लिए उनके पास पैसे नहीं हैं। साहूकारों से कर्ज लेकर किसी तरह दवा पानी व खाने का इंतजाम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि इलाज के लिए विधायक से लेकर मुख्यमंत्री तक गुहार लगाई वे स्वयं अपने बेटे की इलाज के लिए मदद की गुहार लगाने विधायक व मुख्यमंत्री निवास गई, लेकिन किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया। इलाज करवाना तो दूर आवेदन को एक बार देखना भी उचित नहीं समझा।
बता दें कि पीडि़त चार भाई बहनों में से एक जीवनदास 12वीं तक पढ़ा लिखा है और घटना से पहले राजमिस्त्री का काम करता था । जीवन दास की सगाई भी हो गई थी, लेकिन उस हादसे ने उनकी दूल्हा बनने की खुशी भी छीन ली। वहीं, जिला उज्जवल दिव्यांग कल्याण संघ के अध्यक्ष जागेश्वर साहू ने अपने संघ की ओर से पीडि़त को हरसंभव मदद दिलाने का भरोसा दिलाया है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned