अवैध मुरूम उत्खनन से फुलझर घाटी की पहाड़ी खाई में हो रही तब्दील

मुख्य मार्ग के किनारे बेधडक़ चल रहा खनन, विभाग उदासीन

By: Gulal Verma

Published: 25 Feb 2021, 04:44 PM IST

मैनपुर। तहसील मुख्यालय मैनपुर से लगभग 5 किमी दूर मुख्य नेशनल हाईवे मार्ग के किनारे फुलझर घाटी की पहाड़ी (राजस्व वन भूमि) पर अवैध रूप से मुरूम उत्खनन का कार्य लगातार किया जा रहा है। जिससे फुलझर घाटी धीरे -धीरे खाई में तब्दील हो रही है। जिसकी खबर विभाग के आला अधिकारियों को नहीं है। इस स्थल पर राजस्व भूमि में बाकायदा मशीन लगाकर मजदूरों के माध्यम से मुरूम की खुदाई के साथ ही गिट्टी का भी उत्खनन धड़ल्ले से जारी है।
अवैध उत्खनन से एक और जहां फुलझर घाटी की पहाड़ी खाई में तब्दील हो रही है, वहीं दूसरी ओर हरे-भरे विशालकाय वृक्षों पर भी खतरा मंडराने लगा है। मुरूम की खुदाई के कारण बड़े वृक्षों के जड़ के आसपास की मिट्टी गायब हो चुकी है। जिससे मामूली हवा में भी वृक्षों के धराशाई होने की आशंका बनी हुई है। वहीं, मवेशियों के लिए भी यह खाईनुमा गड्ढा खतरा बना हुआ है। देवभोग मैनपुर नेशनल मुख्य मार्ग एनएच 130 में फुलझर घाटी के समीप पहाडिय़ों की दुर्दशा देख लोगों में भी रोष व्याप्त है।

ग्रामीणों का कहना है कि फुलझर घाटी में वनभूमि पर लगातार अवैध खनन जारी है, जिस पर कोई कार्रवाई विभाग द्वारा नहीं की जा रही है। अवैध खनन से जंगल क्षेत्र को नुकसान पहुंचने की पूरी संभावना है। ग्रामीणों ने अवैध मुरूम उत्खनन करने की शिकायत अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मैनपुर के समक्ष करने की बात कही है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned