बिजली गुल व लो-वोल्टेज से बढ़ी पेयजल की समस्या

गर्मी शुरू होते ही पानी के लिए जूझ रहे हैं लोग

By: Gulal Verma

Published: 17 Mar 2021, 04:31 PM IST

मैनपुर। तहसील मुख्यालय मैनपुर नगर में इन दिनों लो-वोल्टेज की समस्या व बिजली की आंखमिचौली के चलते पेयजल समस्या विकराल होती जा रही है। बिजली बंद व लो-वोल्टेज की समस्या से नगर के दो-दो ओवरहैड टैंक में पानी तक भरना मुश्किल हो गया है। लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। मैनपुर नगर को तहसील और अनुविभाग मुख्यालय का दर्जा प्राप्त कर चुका है, लेकिन मैनपुर नगर के लोगों को मूलभूत सुविधाओं के लिए तरसना पड़ रहा है। गर्मी प्रारंभ होते ही मैनपुर नगर के लोग पीने और निस्तारी जल की समस्याओं से दो-चार होने लगे है।

मैनपुर नगर की जनसंख्या लगभग आठ हजार के आसपास है। मैनपुर ग्राम पंचायत क्षेत्र में दो ओवरहेड टैंक के माध्यम से पूरे 20 वार्डो में पेयजल की सप्लाई की जाती है। पाइपलाइन के माध्यम से लोगों के घरों तक पानी पहुंचाया जाता है, लेकिन लगातार पिछले एक माह से मैनपुर क्षेत्र में लो-वोल्टेज और बिजली की बार बार आंखमिचौली के चलते ओवरहेड टैंक में पानी नही भर पा रहा है। जिससे पीने के पानी के लिए हाहाकार मचा हुआ है। हैंडपंपों में भारी भीड़ लग रही है।
बिगड़े हैंडपंपों सुधारने की जरूरत
मैनपुर में एक दर्जन के आसपास हैंडपंप बिगड़े पड़े हैं। इन्हें तत्काल सुधार करवा दिया जाए तो र्मी के दिनो में नगर के लोगों को पेयजल उपलब्ध कराने में काफी मदद् मिल सकती है। साथ ही पानी टंकियों की मरम्मत कराने की भी दरकार है।

पीएचई विभाग के जिम्मेदार अधिकारी
मैनपुर नगर में पी.एच.ई विभाग द्वारा एक सब इंजीनियर की भी तैनाती की है, लेकिन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी के मैनपुर में निवास नहीं करने के कारण पेयजल समस्या की समाधान के लिए कोई कार्ययोजना नहीं बन पा रही है।
अस्थायी प्याऊघर तत्काल शुरू हो
मैनपुर नगर में प्रतिदिन यात्री बसो,ं टैक्सियों व अन्य माध्यमों से हजारों लोगों का आना- जाना होता है। लेकिन लोगों को बस स्टैण्ड में पीने के लिए पानी उपलब्ध नहीं हो पाता। बस स्टैण्ड, सहकारी बैंकों के सामने, यात्री प्रतीक्षालय के सामने, जनपद पंचायत के सामने, तहसील कार्यालय के सामने, एसडीएम कार्यालय के सामने व प्रमुख चौक-चौराहो में अस्थायी प्याऊ घर प्रारंभ किया जाना अति आवश्यक हो चला है।

तालाब में भी पानी की कमी
मैनपुर में एकमात्र निस्तारी तालाब नवा तालाब है। जिसमें पानी 90 प्रतिशत सूख गया है। तालाब में मटमैला गंदा पानी ही बचा हुआ है। मजबूरी में लोग इसी में निस्तारी कर रहे हैं। इस तालाब को पानी भरने के लिए ग्राम पंचायत द्वारा बोर खनन किया गया है, लेकिन बोर लो-वोल्टेज के कारण नहीं चल रहा है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned