खैदा में सडक़ हादसे में बालक की मौत, ग्रामीणों ने जताया आक्रोश

वाहनों की रफ्तार पर लगाम कसने की मांग, 25 हजार रुपए की सहायता राशि दी गई

By: Gulal Verma

Updated: 08 Apr 2021, 03:57 PM IST

बलौदा बाजार। जिले में कोरोना की तरह सडक़ दुर्घटनाएं भी थमने का नाम नहीं ले रही हैं। प्रत्येक दुर्घटना के बाद पुलिस विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा पुलिसिंग को दुरुस्त किए जाने के दावे जरूर किए जाते हैं, परंतु सारे दावे गोल हो जाते हैं। बुधवार को जिला मुख्यालय से महज पांच-छह किमी दूर ग्राम खैंदा में सुबह एक दस वर्षीय बच्चे की तेज रफ्तार हैवी वाहन की चपेट में आने से मौके पर ही मृत्यु हो गई। दुर्घटना से नाराज ग्रामीणों ने घटनास्थल पर जमकर आक्रोश व्यक्त किया, जिसे पुलिस अधिकारियों ने जाकर शांत कराया। जिले में लगातार हो रही सडक़ दुर्घटनाएं पुलिस विभाग की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाती हैं।
जिला मुख्यालय बलौदा बाजार से 5-6 किमी दूर ग्राम पंचायत खैंदा के पास सुबह लगभग 9.30 बजे तेज रफ्तार हैवी वाहन क्रमांक सीजी 22 जे 1559 की चपेट में आने से ग्राम के दस वर्षीय समीर ध्रुव पिता दशरथ ध्रुव की मौके पर ही मौत हो गई। ग्रामीणों के अनुसार ट्रक बलौदा बाजार से ग्राम रसेड़ा की ओर जा रहा था। ग्राम के मोड़ के पास तेज रफ्तार ट्रक ने साइकिल पर सवार समीर को अपनी चपेट में ले लिया। ट्रक के पिछले चक्के की चपेट में आने से समीर की मौके पर ही मौत हो गई।
दुर्घटना के बाद ग्रामीणों द्वारा मौके पर जमकर आक्रोश व्यक्त किया गया तथा इस मार्ग पर चलने वाले तेज रफ्तार वाहनों की गति पर लगाम लगाए जाने की मांग की गई। पुलिस अधिकारियों तथा राजस्व विभाग के अधिकारियों ने मौके पर जाकर ग्रामीणों से चर्चा की तथा राजस्व विभाग द्वारा मृतक के परिजनों को तत्काल 25 हजार रुपए की सहायता उपलब्ध कराई गई। पुलिस ने पंचनामा तथा पोस्टमार्टम कराकर शव को परिजनों को सौंप दिया है। वहीं दुर्घटना के बाद से वाहन चालक मौके से फरार है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned