वैक्सीनेशन के लिए वर्गीकरण से लोगों में नाराजगी

‘पहले आओ-पहले लगवाओ’ की प्रक्रिया अपनाने की जरूरत

By: Gulal Verma

Published: 02 May 2021, 03:56 PM IST

भाटापारा। 1 मई दिन शनिवार से 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड.-9 का टीका लगना प्रारंभ हो गया है, परंतु इसके लगाने की प्रक्रिया व वर्गीकरण को लेकर 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में काफी नाराजगी देखी गई है। लोगों की यह मांग है कि प्रदेश सरकार टीकाकरण में कोई भेदभाव ना करें। पहले आओ, पहले लगवाओ की प्रक्रिया को सरकार को अपनाना चाहिए, तभी जल्द से जल्द प्रदेश के लोगों को टीका लग पाएगा।
शनिवार को नगर के एकमात्र सेंटर मेन हिंदी स्कूल प्रांगण में पुलिस और प्रशासन के साए में टीकाकरण का कार्य प्रारंभ हुआ। पहले दिन केवल अंत्योदय कार्डधारी व्यक्तियों को टीका लगाने का कार्य किया गया। इसके लिए सेंटर के दोनों ओर स्टॉपर लगा कर पुलिस की व्यवस्था की गई थी, उस परिसर के अंदर केवल उन्हीं लोगों को जाने की अनुमति दी जा रही थी, जिनके पास अंत्योदय कार्ड था। शेष लोगों को रोक दिया गया, इसको लेकर लोगों ने अपनी नाराजगी प्रकट की है और कहा है कि सरकार को महामारी के इस दौर में सबको टीका लगाने देना चाहिए।
बता दें कि सरकार का यह निर्देश है कि पहले अंत्योदय कार्डधारियों के लोगों को टीका लगाया जाएगा। उसके बाद बीपीएल कार्डधारियों के लोगों को टीका लगवाया जाएगा, फिर उसके बाद एपीएल कार्डधारियों को टीका लगाया जाएगा। ऐसी व्यवस्था को लेकर कई लोगों ने सवाल खड़े किए हैं। लोगों की मांग है कि सरकार इस मामले में अपने निर्णय पर पुनर्विचार करें और सभी को टीका लगाने की अनुमति के आदेश जारी करें। एक तरफ सेंट्रल गवर्नमेंट के पोर्टल पर लोगों ने वैक्सीनेशन के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा लिया था और रजिस्ट्रेशन के अनुसार उन लोगों को यथा स्थान की जानकारी देते हुए समय पर पहुंचने के लिए पोर्टल के माध्यम से जानकारी दी गई थी, किंतु जब वे लोग वहां पहुंचे तो पता चला कि अंत्योदय कार्ड धारी व्यक्तियों को ही फिलहाल टीका लगाया जाएगा।
पहले दिन मात्र 28 लोगों को लगा टीका
1 मई शनिवार को 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण का कार्य में मेनहिंदी स्कूल में किया गया यहां पर पहले दिन मात्र 28 लोगों को टीका लगाया गया। यहां पर खास बात यह रही कि टीका लगाने के पहले आए सभी लोगों का एंटीजन टेस्ट भी किया गया, जिसमें सभी के सभी लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव रही। बताया गया कि यदि एंटीजन रिपोर्ट में किसी भी व्यक्ति की रिपोर्ट पॉजिटिव आती अथवा कोई सिम्टम्स दिखाई देते हैं तो उसे टीका नहीं लगाया जाता और उसे होम आइसोलेशन में भेजकर दवाइयां आदि दी जाती।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned