सीएम भूपेश बघेल ने हितग्राहियों से की सीधी चर्चा, महिला समूहों ने कहा, गोठान से आय अर्जित किया

छात्रा सिमरन ने कहा, अब गरीब बच्चे भी अंग्रेजी स्कूल में पढ़ेंगे

By: Gulal Verma

Published: 11 Jun 2021, 03:44 PM IST

गरियाबंद। मुख्यमंत्री ने विकास कार्यो के लोकार्पण और भूमिपूजन के अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रसिंग से जिले के विभिन्न हितग्राहियों से सीधी चर्चा की और विकासीय योजनाओं की जानकारी ली। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने गुलाब महिला समूह ग्राम सढ़ौली के सुरेखा बाई से बात करते हुए खुशी जताया कि उनके द्वारा गोठान में वर्मी कम्पोस्ट बनाया जा रहा है और अभी तक 5 हजार रुपए प्रतिमाह की आय सभी सदस्यों को हो जाती है। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा मशरूम का उत्पादन भी किया जा रहा है, जिसमें आजीविका में वृद्धि हुई है। अभी तक उनके द्वारा 21 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट बेचा गया है। मुख्यमंत्री ने इसे सुपर कम्पोस्ट खाद बनाने का सुझाव दिया।
गोधन न्याय योजना अंतर्गत ग्राम अतरमरा के किसान ओंकार सिन्हा ने बताया कि वे 38 हजार 684 रुपए का गोबर बेचकर लाभ कमा चुके है। उन्होंने बताया कि दूध से ज्यादा गोबर बेचने में आमदनी हो रही है। जिससे उन्होंने अपने मवेशियों के लिए पैरा कुट्टी मशीन भी खरीद ली है। मुख्यमंत्री ने सिन्हा को बधाई दी है।
इसी तरह ग्राम नागझर के भारती गोस्वामी ने बताया कि उनके द्वारा भी 85 क्ंिवटल कम्पोस्ट तैयार किया गया हैए जिसमें 27 क्ंिवटल का विक्रय हो चुका है। जिससे उन्हें अच्छा लाभ मिला है। उन्होंने बताया कि गांव में अन्य 9 समूह गोठान से जुडक़र आमदनी अर्जित कर रही है। ग्राम पोटिया निवासी झुमुक लाल ने बताया कि उन्हें किसान न्याय योजना अंतर्गत पिछले वर्ष 55 हजार रुपए की राशि मिली थी। इस वर्ष भी उन्हें प्रथम किस्त प्राप्त हो गया है। उन्होंने बताया कि इस राशि से रोटावेटर खरीद लिया है, जिससे उनकी खेती किसानी में प्रगति आयेगी।
स्वामी आत्मानंद इंग्लिश मीडियम स्कूल में प्रवेश पा चुकी कुमारी सिमरन ध्रुव ने अंग्रेजी में बात करते हुए मुख्यमंत्री को इस पहल के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि अब गांव के गरीब बच्चे भी अंग्रजी माध्यम में पढ़ सकेंगे। उन्होंने इन स्कूलों में मैदान, पुस्तकालय, कम्प्यूटर जैसी सुविधा मुहैया कराने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद ज्ञापित किया। भूतेश्वनाथ हर्बल स्व सहायता समूह केशोडार की सदस्य सविता सोरी ने बताया कि उनके द्वारा 13 प्रकार के वन औषधि से निर्मित उत्पादन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि दो प्रकार के तेल और 11 प्रकार के चूर्ण का निर्माण समूह द्वारा किया जाकर विक्रय किया जा रहा है। सर्व ज्वरहर चूर्ण को समूह द्वारा मुख्यमंत्री को भेंट करने का अनुभव भी उन्होंने बताया।
राष्ट्रीय बागवानी मिशन अंतर्गत लाभान्वित कृषक उद्धव राम ने विभाग द्वारा संचालित गतिविधि से उन्हें केला उत्पादन 56 हजार रुपए की सब्सिडी मिली है। उनके द्वारा केला, मिर्ची, भाटा आदि फसल ड्रिप एरिगेशन और मल्चिंग पेपर के माध्यम से उगाया जा रहा है। उन्होंने एक एकड़ जमीन में मुख्यमंत्री पौधरोपण प्रोत्साहन योजना अंतर्गत पेड़ लगाने की बात मुख्यमंत्री को बताया।
तेंदूपत्ता संग्राहक परिवार के मृत्यु उपरांत तुलसा बाई को 4 लाख रुपए सहायता राशि का चेक भी मौके पर दिया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले राशि मिलने में विलंब हो जाता था, लेकिन अब हम अतिशीघ्र राशि प्रदान कर रहे है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned