बाथरूम में छुपाकर रखे लाखों रुपए के प्रतिबंधित जर्दायुक्त गुटखा बरामद

खाद्य और औषधीय प्रशासन ने घर में दी दबिश

By: Gulal Verma

Published: 03 Jul 2021, 09:51 AM IST

बलौदाबाजार। जिला मुख्यालय बलौदाबाजार में प्रतिबंधित जर्दायुक्त गुटखे की खुलेआम बिक्री को गंभीरता देखते हुए खाद्य और औषधीय प्रशासन ने शुक्रवार को बलौदाबाजार के गौरव पथ वार्ड नं 5 के एक मकान में दबिश देकर लाखों रुपए के प्रतिबंधित जर्दायुक्त गुटखा बरामद किया है। गुटखे को मकान के बाथरूम में छुपाकर रखा गया था, जिसे दिखाने के नाम पर सामने पिपरमेंट के डब्बे रखे थे, जिनकी आड़ में गुटखा का व्यापार सालों से किया जा रहा था। पकड़े गए गुटखे के पैकेट में ना ही कंपनी का नाम है और ना ही मूल्य लिखा है। वहीं आरोपी जगदीश यादव के खिलाफ अब कार्रवाई की बात चल रही है। जानकारी के अनुसार आरोपी रायपुर गुढिय़ारी से सामान लाकर बेचता था फिलहाल पूछताछ और अन्य कार्रवाई जारी है।
जिला खाद्य एवं औषधीय प्रशासन अधिकारी उमेश वर्मा ने बताया कि ग्राम छेरकापुर में दुकानों की जांच की जा रही थी इसी दौरान जर्दायुक्त पाउच मिले जिस पर दुकानदार से और मंगाने को कहा गया तब आरोपी वहां लेकर पहुंचा फिर उसके घर में दबिश देकर लाखों रुपए का सामान बरामद किया गया है। अभी लगभग डेढ़ लाख रुपए का सामान मिला है। आगे जांच जारी है। व्यापारी ने अब तक किसी प्रकार का कोई वैध दस्तावेज नहीं प्रस्तुत किया है और ना ही रजिस्ट्रेशन कराया है।
गुटखे-गुड़ाखू की जमकर की गई कालाबाजारी
जिला मुख्यालय बलौदा बाजार समेत आसपास के ग्रामीण इलाकों में बीते दो.तीन माह से पान मसालों के साथ ही साथ सिगरेट तथा गुड़ाखू की जमकर कालाबाजारी की जा रही है। लॉकडाउन के दौरान पूर्व में संक्रमण के बचाव के चलते राज्य सरकार द्वारा पान मसाला व गुड़ाखू उत्पादों में प्रतिबंध लगाया गया था, परंतु दुकानदारों द्वारा बढ़े दामों पर पान मसालों को बेचना बंद नहीं किया गया था। बड़े पान मसाला कारोबारियों के लिए बीते वर्ष की तरह इस वर्ष का लॉकडाऊन काफी फायदेमंद रहा है। सूत्रों के अनुसार नगर के बड़े व्यापारियों द्वारा नगर के छोटे दुकानदारों के साथ ही साथ ग्रामीण इलाकों के छोटे किराना व्यवसायी व बीच बस्ती अंदर में दुकानों को पान मसाला व गुड़ाखू उत्पाद मुहैया कराया गया जिसे इनके द्वारा मनमाने दाम पर बेचा गया है। जिला प्रशासन द्वारा जनरल स्टोर्स के साथ ही साथ किराना व्यावसाइयों को निर्धारित समय तक ही दुकान खोलने की अनुमति प्रदान की गई है, किंतु नगर के कुछ बड़े व्यापारी इसका पालन ना करते हुए शटर आधा अधूरा बंद कर दिनभर पान मसाले तथा सिगरेट-गुड़ाखू को मुहैया कराते रहे हैं जो कि लॉकडाऊन के नियमों का घोर उल्लंघन है। हैरत की बात है कि विभागीय अधिकारियों से लेकर नगर के अधिकांश लोगों को पान मसालों, सिगरेट, गुड़ाखू के इस सुनियोजित कालाबाजारी की पूरी जानकारी है, परंतु संबंधित विभाग के साथ ही साथ जिला प्रशासन तथा पुलिस प्रशासन द्वारा कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई ना किए जाने से इन विभागों के आला अधिकारियों की कार्यशैली पर भी प्रश्नचिह्न उत्पन्न हो रहा है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned