छत्तीसगढ़ सहकारिता कर्मचारी महासंघ ने किया अर्धनग्न प्रदर्शन

धान खरीदी में सूखत की राशि समितियोंं को वापस दिलाने की मांग

By: Gulal Verma

Published: 31 Jul 2021, 08:27 AM IST

संडी बंगला। धान खरीदी में आ रही सूखत की राशि समितियोंं को वापस दिलाने व परिवहन में देरी से होने के कारण हो रही अतिरिक्त खर्चों को समितियों को देने सहित विविध मांगों के समर्थन में पिछले कई दिनों से हड़ताल कर रहे सहकारी समिति कर्मचारियों ने शुक्रवार को अनूठा प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने सामूहिक रूप से अर्धनग्न प्रदर्शन कर रोष जताया। वहीं, प्रदर्शन में कोदवा, पलारी, रोहांसी, वटगन, कोसमंदी सहित पांच शाखा के कर्मचारियों ने पलारी कृषि उपज मंडी स्थित धरना स्थल पर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया।
सहकारिता समिति के कर्मचारियों ने कहा कि पिछले कई दिनों से लगातार अपनी मांगों के लेकर लगातार अलग-अलग तरीके से प्रदर्शन कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ सहकारिता कर्मचारी महासंघ तीन दिन पहले रायपुर बूढ़ातालाब धरना स्थल पर प्रदर्शन कर विधानसभा घेराव किए थे। फिर भी सरकार की ओर से कोई हमें प्रतिक्रिया नहीं मिली। अगर हमारी मांगें जल्द ही पूरी नहीं की गई तो बड़े रूप में प्रदर्शन करेंगे। इस मौके पर बलौदाबाजार के पदाधिकारी मनीराम कैवर्त अध्यक्ष, अमृतलाल पटेल प्रवक्ता, रामकुमार साहू उपाध्यक्ष, सुनील कुमार मिश्रा उपकोषाध्यक्ष, मनोहर लाल कैवर्त उपकोषाध्यक्ष, जितेंद्र कुमार कार्यकारिणी सदस्य, चंद्रमा कुमार साहू प्रचार मंत्री, रामसागर कैवर्त अंकेक्षक, नोखराम साहू अंकेक्षक, रोहित यादव सचिव, लक्ष्मीनारायण वर्मा कोषाध्यक्ष वब्लॉक स्तरीय पदाधिकारी द्वारका प्रसाद साहू संरक्षक, संतोष कुमार यादव अध्यक्ष्, कपिलदेव वर्मा उपाध्यक्ष, सेवकराम साहू उपाध्यक्ष, मलर साहू कोषाध्यक्ष, जितेंद्र साहू सचिव, धर्मेंद्र साहू सहसचिव, रामप्रसाद वर्मा संगठनमंत्री, दीपक साहू प्रचारमंत्री, रमेशर साहू विशेष सलाहकार, अखिलेश आजाद मीडिया प्रभारी आदि उपस्थित थे।

किसानों को हो रही परेशानी : उमेश यदु
संडी भाजपा मंडल के युवा मोर्चा अध्यक्ष उमेश यदु ने कहा कि सहकारिता समिति के कर्मचारियों द्वारा अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करने से जिले की सभी सोयायटी काफी दिनों से बंद है, जिससे किसानों को खाद, बीज, राशन के लिए खरीदने में परेशानी हो रही है। उन्होंने कहा कि वर्तमान मेें किसानों को कीटनाशक दवाई व खाद की सर्वाधिक आवश्यकता पड़ती है। यदि किसानों को सही समय मे खाद व कृषि दवाई की पूर्ति नहीं हुई तो खेती पिछड़ जाएगी।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned