भारी बारिश से जिला मुख्यालय गरियाबंद से कई गांवों का टूटा संपर्क, आवागमन बंद

नदी-नाले उफान पर, जनजीवन अस्त-व्यस्त, राजनकट पंचायत भवन डूबा

By: Gulal Verma

Published: 15 Sep 2021, 05:02 PM IST

गरियाबंद/ पांडुका। दो दिनों से हो रही भारी बारिश से पूरे क्षेत्र में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बारिश के कारण कई गांवों का का संपर्क जिला मुख्यालय से टूट गया है। नदी-नाले उफान पर हैं। पुल-पुलिया के ऊपर पानी बहने से आवामगन बंद हो गया है। कई गांवों में जलभराव हो गया है। खेत-खलिहान लबालब हो गए हैं। राजनकट पंचायत भवन डूब गया है। जिला प्रशासन ने गांवों में मुनादी कराकर लोगों को सुरक्षित जगह पर रहने की अपील की है। भारी बारिश की वजह से लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।
सरगी नाला ने अपना ऐसा रूद्र रूप दिखाया कि ग्राम पंचायत रजनकटा के बीच बस्ती तक पानी घुस गया है। ग्राम पंचायत 5 फीट पानी में डूब गया। इसके आश्रित ग्राम खट्टी, ग्राम पंचायत बोर्डर बांधा के आश्रित ग्राम दिही के घरों में पानी घुसने से ग्रामीणों को अपने घर का सामान दूसरे घरों में ले जाना पड़ा है। मोहतारा ग्राम में आज से 5 साल पहले आए जलप्रलय की फिर एक बार पुन: बारिश ने याद दिला दी है। स्कूल भवन सहित कई निजी भवन 4 से 5 फीट तक डूब गए और गली में कमर के ऊपर पानी बहने लगा। ब्लॉक मुख्यालय व पांडुका से होकर जाने वाले मार्ग पूरी तरह ब्लॉक हो गया है। प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के तहत बनाए गए छोटे-छोटे पुल डूब गए हैं। क्षेत्र में नदी-नालों पर बड़े पुल नहीं बनने से सरगी नाला उफान पर है। रवेली, गाड़ाघाट, खट्टी, रजनकाटा, तरीघाट सही कई गांवों में जनजीवन प्रभावित हुआ है।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned