सुगंध दशमी के दिन धूप की आहुति देने से अष्ट कर्मों का होता है नाश : अक्षय जैन

हर्षोल्लास से मनाया जा रहा पर्युषण पर्व

By: Gulal Verma

Published: 18 Sep 2021, 04:53 PM IST

बलौदाबाजार। श्री 1008 भगवान आदिनाथ दिगंबर जैन मंदिर में पर्युषण पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है। गुरुवार को सातवें दिन को अष्ट सुगंधी दशमी के रूप में मनाई गई। पूजा में पूर्ण विधि विधान से आहुति कुंड में धूप की आहुति दी गई। राजस्थान से आए हुए पंडित अक्षय जैन ने विधि विधान से जैन समाज के लोगों को धूप की आहूति दिलवाई।
पंडित अक्षय जैन ने बताया कि सुगंध दशमी के दिन 108 बार शांतिनाथ भगवान का जाप करते हुए यदि कोई व्यक्ति कुंड में धूप की आहुति देता है तो उसके अष्टकर्मों को भगवान दूर करते हैं और शक्ति प्रदान करते हैं। उत्तम तप धर्म 12 रूपों में कहा जाता है। इच्छा पर संयम रखना ही तप धर्म है। अपनी इच्छा पर संयम रखने में उत्तम तप ही शक्ति प्रदान करता है। प्रतिदिन सुबह शांति धारा का सौभाग्य हर व्यक्ति को मिलता है तथा शाम को 8 से 9 बजे तक पंडितजी का प्रवचन प्रतिदिन आयोजित किया जाता है। रात्रि 9 बजे के बाद समाज के छोटे-छोटे बच्चों के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
गुरुवार को कलेक्टर सुनील कुमार जैन सपत्नी मंदिर में सुगंध दशमी कार्यक्रम में धूप की पूर्ण आहुति देने पहुंचे। इस अवसर पर जैन समाज के अध्यक्ष दिनेश जैन, नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष अशोक जैन, महिला समाज की अध्यक्ष ममता जैन ने कलेक्टर सुनील कुमार जैन का स्वागत किया। प्रतिदिन कार्यक्रम में समाज के वरिष्ठ इंद्रकुमार जैन, महावीर जैन, रमेश जैन, मिश्रीलाल जैन, पदम जैन, कपूर चंद जैन, महेंद्र जैन, संदीप जैन, अनूप जैन, दिलीप जैन, ऋषभ जैन, संजय पाटनी, संदीप जैन, रवि जैन, प्रवीण जैन सहित समाज के बच्चे, पुरुष, महिलाएं बड़ी संख्या में पर्युषण पर्व को हर्षोल्ला से मना रहे हैं।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned