scriptcg news | बोडक़ी में पारंपरिक बेलन से धान मिंजाई | Patrika News

बोडक़ी में पारंपरिक बेलन से धान मिंजाई

आधुनिक तकनीक ने खेती के पारंपरिक साधनों को कर दिया दूर

रायपुर

Published: December 02, 2021 04:42:21 pm

छुईहा बेलर। छत्तीसगढ़ में पारम्परिक बेलन से धान मिंजाई करना बहुत प्रसिद्ध था। बोडक़ी ग्राम के किसान धनजी साहू आज भी मिंजाई का कुछ अंश बेलन से करते आ रहे हैं। धान मिंजाई का यह तरीका अधिक कारगर है, क्योंकि बेलन से धान बहुत जल्दी अलग हो जाता है।
पैरा जलाकर काली राख की रेखा बनाई जाती है। जिससे किसानों का विश्वास है कि यह टोटका बुरी शक्तियों कुदृष्टि से उनकी फसलों को बताएगा। अब थ्रेसर मशीन, हार्वेस्टर ने तो धान मिंजाई व उड़ाने का झंझट ही खत्म कर दिया। किसान ने कहा कि आधुनिकता ने हमारा सुन्दर और सुनहरा कल छीन लिया। वर्तमान में आधुनिकता विज्ञान टेक्नोलॉजी और इक्कीसवीं सदी का प्रभाव जीवन के हर कार्यों में काफी बदलाव अवश्य आया है, किन्तु कई क्षेत्रों में ग्रामीण आज भी पारंपरिक विधि से कृषि को अपनाएं हुए हैं। जिसका प्रत्यक्ष उदाहरण छुईहा से 3 किलोमीटर दूर ग्राम फुलझर बोडक़ी निवासी लघु किसान धनजी साहू हैं, जो आज भी धान मिंसाई का काम लकड़ी से निर्मित बेलन तथा बैल से कर रहे है। पारंपरिक विधि से किसानी करते हुए अपने आप को गौरवान्वित महसूस करते हैं। लेकिन जरूरी काम को जल्दी निपटाने तथा सुविधाजनक बनाने तकनीकि सुविधा मानव जीवन के लिए वरदान है। वहीं, छत्तीसगढ़ी संस्कृति में कई कार्य पारंपरिक विधि से करने पर अत्यंत सुखदायक अनूभूति प्रदान करता है।
बता दें कि मात्र तीन दशक पूर्व कृषि का सभी कार्य पुरानी पद्धति से निपटाया जाता रहा है। जैसे हल द्वारा जोताई, रोपाई, गुड़ाई ,कटाई, मि,साई, उड़ाई तथा बैलगाड़ी द्वारा ढुलाई, ब्यारा में विविध प्रकार से रस्में करना आदि कार्य समय अनुसार हुआ करता था।
बोडक़ी में पारंपरिक बेलन से धान मिंजाई
बोडक़ी में पारंपरिक बेलन से धान मिंजाई

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'दिल्ली में संक्रमण दर 30% के पार, बीते 24 घंटे में आए कोरोना के 24,383 नए मामलेअब एसएसबी के 'ट्रैकर डॉग्स जुटे दरिंदों की तलाश में !सूर्य ने किया मकर राशि में प्रवेश, संक्रांति का विशेष पुण्यकाल आजParliament Budget session: 31 जनवरी से शुरू होगा संसद का बजट सत्र, दो चरणों में 8 अप्रैल तक चलेगाArmy Day 2022: आज से नई लड़ाकू वर्दी में दिखेंगे हमारे जवान, सेना दिवस पर थलसेना प्रमुख लेंगे परेड की सलामीCDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की वजह आई सामने, वायुसेना ने दी जानकारीकोविड पॉजिटिव गर्भवती महिला के पेट में कोरोना से अधिक सुरक्षित है शिशु, जानिए कैसे महामारी के दौर में सुरक्षित रखें मां और बच्चे को
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.