दुर्गा महा अष्टमी आज, मंदिरों से घरों तक हवन और आरती

Chaitra navratri Durga Maha Ashtami : नौ कन्या पूजन की जगह एक कन्या की पूजा कर खिलाएंगे गोमाता को .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 20 Apr 2021, 05:20 PM IST

रायपुर। नवरात्रि पर्व की महाअष्टमी तिथि (Chaitra navratri Durga Maha Ashtami) मंगलवार को है। देवी मंदिरों में पुजारी मां भगवती का विशेष अभिषेक कर महाआरती करेंगे। इसी तरह घरों में पूजा चौकी पर विराजीं मातारानी को दूसरी चुनरी चढ़ाकर श्रद्धालु आरती करेंगे। पंडितों के अनुसार इस बार नवरात्रि पर्व की सभी नौ तिथियां संपूर्ण होने के कारण सुबह से आरती, हवन पूजा प्रारंभ होगा। सोमवार को मां दुर्गा का महानिशा पूजन देवी मंदिरों में आधी रात किया गया गया। जैसा कि पुरानी परंपराएं कि महानिशा पूजन के दौरान किसी भक्त की नजर न पड़े।

Read More : Chaitra Navratri 2021: मां कालरात्रि की उपासना, जानें पूजा विधि, बीज मंत्र और व्रत कथा

कोरोना संकट के कारण देवी मंदिरों (Chaitra navratri 2021) के पट भक्तों के लिए बंद होने से श्रद्धालु अपने-अपने घरों में ही शक्ति स्वरूपा का हवन, पूजन कर महाआरती करेंगे और आम की लकड़ी नहीं मिलने के कारण नारियल के चिलके को जलाकर आहूतियां देंगे। क्योंकि लॉकडाउन के कारण पूजा सामग्री दुकानें बंद है। लॉकडाउन लगने से पहले जो श्रद्धालु पहले से तैयारी कर रखे थे, उन्हें पूजा, हवन करने में कोई अड़चन नहीं है।

आठ कन्याओं के नाम का भोजन गोमाता को
कोरोना महामारी को देखते हुए मातारानी का उपवास रखकर पूजा-अर्चना करने वाले श्रद्धालु नौ कन्याओं की जगह केवल कन्या का पूजन कर भोजन कराएंगे और आठ कन्याओं के नाम का भोजन गोमाता को खिलाएंगे। देवी मंदिरों में भी भोग-भंडारा नहीं होगा।

Read More : Chaitra Navratri 2021: नवरात्र में होती है मां कूष्मांडा की आराधना, जानिए पूजा विधि और बीज मंत्र

महामाया मंदिर रात 11 बजे से होगा हवन
महामाया मंदिर के पुजारी मनोज शुक्ला ने बताया कि अष्टमी और नवमी तिथि की युति में पूर्णाहुति की परंपरा है। इसलिए रात 11 बजे से हवन प्रारंभ होकर नवमी तिथि प्रारंभ होने तक चलेगा। पूर्णाहुति में केवल पुजारी और मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारी ही शामिल होंगे। इसके बाद माता को राजभोग अर्पित किया जाएगा। नौ कन्याओं की जगह पुजारी परिवार की एक कन्या का पूजन कर गोमाता को भोजन कराएंगे।

सतबहिनिया मंदिर में रात 11 बजे हवन
सतबहिनियां माता मंदिर बंधवापारा के आचार्य पं. विजय कुमार झा एवं उमेश पाण्डेय ने बताया कि मंदिर में 86 मनोकामना ज्योति कलश श्रद्वालुओं द्वारा प्रज्जवलित किया गया है। 20 अप्रैल को रात 1.30 बजे तक अष्टमी तिथि है। दंतेश्वरी मंदिर खोखोपारा में 556 मनोकामना ज्योति प्रज्जवलित है।

Read More : Chaitra Navratri 2021: चैत्र नवरात्रि के पांचवें दिन मां स्कंदमाता की होती है उपासना, जानिए मंत्र, कथा और पूजा विधि

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned