scriptchattisgarhi nacha-gammat me samajik sandes hothe | अई, गजब मीठ लागिस हे मोला... | Patrika News

अई, गजब मीठ लागिस हे मोला...

हमर गांव-देहात के असल सामाजिक सरूप ह जेन माध्यम ले नकल रूप म दिखथे वो माध्यम आय- नाचा। नाचा ह तत्कालीन समाज के धारमिक, नैतिक, नियायिक, सैक्छिक अउ आरथिक बेवस्था ले बड़ा सुग्घर अवगत कराथे। नाचा ह लोकनाट्य परम्परा रूप म गांव के लोकजीवन सैली के सारवजनिक दरसन कराथे। साहित्यिक गद्य विधा के मुताबिक लोकनाट्य के रूप म नाचा रात म ही आयोजित होथे। नाचा ह जम्मो नाट्य तत्व ले भरे होथे। पात्र-चित्रन तत्व के महत्तम अउ सारथक उपयोगिता ह नाचा ल सजीवता परदान करथे।

रायपुर

Updated: March 21, 2022 04:43:40 pm

हमर गांव-देहात के असल सामाजिक सरूप ह जेन माध्यम ले नकल रूप म दिखथे वो माध्यम आय- नाचा। नाचा ह तत्कालीन समाज के धारमिक, नैतिक, नियायिक, सैक्छिक अउ आरथिक बेवस्था ले बड़ा सुग्घर अवगत कराथे। नाचा ह लोकनाट्य परम्परा रूप म गांव के लोकजीवन सैली के सारवजनिक दरसन कराथे। साहित्यिक गद्य विधा के मुताबिक लोकनाट्य के रूप म नाचा रात म ही आयोजित होथे। नाचा ह जम्मो नाट्य तत्व ले भरे होथे। पात्र-चित्रन तत्व के महत्तम अउ सारथक उपयोगिता ह नाचा ल सजीवता परदान करथे।
नाचा म चरित्र-चित्रन के अंतरगत पुरुस ह नारी पात्र के रूप म प्रस्तुत होवत नाचा ल जीवंत बनाय रखथे। तभे तो नाचा के कथानक याने गम्मत प्रस्तुति के पहिली दू या तीनझन परी ह अपन गीत-नृत्य ले दरसकमन ल रिझावत नाचा के सुरू ले आखिरी तक एक सुग्घर ससक्त प्रस्तुति ल कायम रखथे।
नाचा के मंच म परी बने पुरुस पात्र ह सुग्घर, मनमोहक गीत गावत अउ नाचत दरसकमन के मनोरंजन करथें। परी के गीत-नृत्य प्रस्तुति ले गदगद होके कोनो दरसक ह दूरिहा ले हाथ ले इसारा करके, टार्च बार के, माचिस काड़ी बार के अउ नइये, सीटी मार के बलाथे। तब मंच ले नाचत-गावत परी ह वो दरसक मेर जाथे। परी अउ दरसक के बीच हंसी-मजाक अउ गोठ-बात होथे। ताहन दरसक ह परी ल वोकर कला के सम्मान करत अउ अपन खुसी जतावत पांच-दस रुपिया देथे। दरसक ले परी ल देय ये कला प्रोत्साहन रासि ल ‘मोंजरा’ कहे जाथे। ताहन फेर वो परी ह मोंजरा लेके नाचत-ठुमकत मंच म आथे। वोकर आवत ले दूसर परी ह मंच म नाचत रहिथे। फेर, दूनों परी के बीच कुछ सारथक गोठ-बात (संवाद) होथे। जेमा लोकगीत घलो सामिल रहिथे। एक बानगी प्रस्तुत हे-
अई...गजब मीठ लागिस हे मोला,
टीकेस्वरर भइया के गोठ या।
गब्दी के रहवइया ये बिचारा ह।
अउ पास म बला के मोला,
दिस हे ये दस के नोट या।
मोंजरा लेवइया परी ह राग लमियाथे।अउ कुछू किहिस नइये या। फेर, दूसर परी ह संवाद ल आगू बढ़ाथय। हां बहिनी किहिस हे या। बड़ मयारू भइया लागिस हे वोहा। ये गोठ-बात के माध्यम ले ठेठ देहाती भासा-सैली ले भूमिका बांधथे। किहिस हे बिचारा ह मोला बहिनी। ये दुनिया म मया-पिरीत अमोल होथे। भागमानी ल मया-परेम मिलथे। ये काहत लोकगीत ल जोड़ के गोठ-बात ल सटीक करत नाचा के प्रस्तुति ल सारथक बनाय के उदिम करथे।
मंगनी मा मांगे मया नइ मिलै रे
मंगनी मा।
फांदा रे फांदा, मया के फांदा।
देखे मा लोकलाज, पाय मा ठंडा।
मंगनी मा मांगे....।
अइसने ढंग ले मोंजरा लेय परी ह मंच म सारथक गोठ-बात करत गांव-गंवई के लोकजीवन सैली ल अलाप मारत, मादक सायरी बोलत नाचा के आकरसन ल बनाय रखथे।
सराब पीने से पहले,
बोतल हिलाई जाती है।
मोहब्बत करने से पहले,
आंख मिलाई जाती है।
ताहन मोंजरा देवइया दरसक कोती इसारा करत वोकर बर अइसन ढंग के गीत गाथे।
लागे रहिथे दीवाना तोरो बर,
मोरो मया लागे रहिथे।
आमा लगाएच ओरीच-ओरी गा,
जेमा रेंगै कनहइय्या का भइगे।
ये जांवर-जोड़ी बइहा, ये दिन...।
लागे रहिथे दीवाना...।
नाचा म मोंजरा अउ मोंजरा लेवइया पात्र के खास महत्तम होथे। गम्मत प्रस्तुति ले पहिली मोंजरा लेवई ल बंद करे के ओखी करत दरसकमन ल अइसन गोठ-बात अउ गीत ले रिझाथे।
वो दे ह, जेन ह पूरा बांही कुरता पहिरे हे अउ टोपी लगाय हावय। उही ह जेन करिया चस्मा लगाय तेनो ह मोला अब्बड़ मया करथे। मोला आवन नइ देवत रहिस हे। वोला मेहा ले-दे के मनाय हंव।
मोला जावन देना रे अलबेला मोर,
अब्बड़ बेरा होगे, मोला जावन देना।
आगी सुल्गाहूं, दीया बारे नइ हंव।
रांधे बर चाउर घलो निमारे नइ हंव।
हाय, निमारे नइ हंव रे।
अलबेला मोर, अब्बड़ बेरा होगे...।
नाचा म मोंजरा एक या दूपरी ले सकेले मेहनताना होथे। ये रासि म वोकर एकाधिकार नइ राहय, भलुक पूरा नाचा पारटी के अधिकार होथे। सकलाय रासि ल सबझन बराबर बांटथे। मोंजरा के रकम लसब नाचा कलाकार के कला परदरसन के उपलब्धि माने जाथे। ये सब कलाकार के सामूहिक कमाई होथे।
मोंजरा के संबंध म अहू बात देखे-सुने बर मिलथे कि पहिली तो सिरिफ मोंजरा के भरोसा नाचा कारयकरम आयोजित होवय। बदलत समे के संग ऐकर सरूप घलो बदल गे।
अई, गजब मीठ लागिस हे मोला...
अई, गजब मीठ लागिस हे मोला...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: RCB ने राजस्थान को जीत के लिए दिया 158 रनों का लक्ष्यपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.