दानबीर दाऊ कल्यान सिंग

सुरता म

By: Gulal Verma

Published: 05 May 2020, 04:26 PM IST

दाऊ कल्याण सिंग के ददा के नाव बिसेसरनाथ अउ दाई के नाव पारबती रिहिस। जउनमन हमर छत्तीसगढ़ के रायपुर जिला के भाटापारा सहर के तीर तरेंगा गांव म राहत रहिन अउ जमीदारी करत रहिन हे। अइसन जमीदार परिवार म दाऊ कल्यान सिंग के जन्म 4 अप्रैल बछर 1876 के होइस हे। वो समे बिसेसरनाथ ह अपन जमीदारी संग खेती-बाड़ी अउ किसानी ले आवाक ल जादा बढ़ाय खातिर परिया जगामन म छोटे-छोटे गांवमन ल बसावत गिस। जेकर चलत उंकरमन के अब्बड़ अकन करजा होंगे रहिन। बिसेसरनाथ ह बछर 1903 म सरग सिधार गिस। वो समे दाऊजी ह 27 बरस के रिहिस हे।
दाऊजी ह अपन पढ़ई - लिखई ल तरेंगा गांव के छोटकुन स्कूल म करिन हे। दाऊ कल्याण सिंग ह अपन सुजानिक मति अउ समझदारी ले अपन सबो करजा ल पूरा चूका दिस। अपन छेत्र म पोठ बिकास कराइन। जेकर ले उंकर खेती बाड़ी के कमई ह सालाना के तीन लाख रुपिया होगे रिहिस। बछर 1937 म दाऊ ह अकेल्ला 70 हजार रुपिया ले जादा के सरकार ल लगान (राजस्व) पटाय रहिन हे।
रायपुर म अस्पताल (डीके अस्पताल) ल बनवाय खातिर दाऊ कल्यान सिंग ह बछर 1944 म वो समे एक लाख पच्चीस हजार रुपया के नकद दान दे रहिन हे। अब के समे म वो दान ह करीब सत्तर करोड़ के बरोबर होथे। वो समे दाऊ कल्याण सिंग अस्पताल ह छत्तीसगढ़भर म एकठन अइसन अस्पताल रहिस हे जेमा इलाज के जम्मो नवा-नवा सुविधा मिल जवत रहिस हे।
दाऊजी के दानपुन के किस्सा सुनाबो त रायपुर के लभांडी म कृसि महाविद्यालय, छय बीमारी (टीबी) के रोगीमन बर आरोग्यधाम अस्पताल, रायपुर पुरानी बस्ती के टुरी हटरी जगन्नाथ मन्दिर ल बनाय खातिर बर खैरा नाव के पूरा गांव के दान कर दिस।
दाऊजी ह कभु कोनो जाति-धरम के लोगनमन म भेद नइ करिन। मंदिर, मस्जिद, गिरिजाघर, गुरुद्वारा हो, चाहे स्कूल , पुस्तकालय, सरकारी भवन, गोसाला, कांजीहाउस, सड़क, मरघट्टी, बाजार, तरिया, बांध हो, अइसन कई किसम के सबो काम ल बनाय बर दाऊजी ह कभु जमीन त कभु नकदी रुपिया दान दिस।
बछर 1921 म जउन समे भाटापारा छेत्र म बड़ भारी अकाल -दुकाल परे रहिस तब दाऊजी ह गरीबमन के मदद करिस हे। कई लाख रुपिया खरचा करके एकठन बड़का बांध ल बनवाइस। जेला आज कल्यान सागर बांधा के नाव ले जानथंन। भाटापारा म ही गाय-गरुवा बर अस्पताल, सियानमन बर पुस्तकालय अउ धरमसाला भवन जइसन कईठन काम दाऊजी ह कराइस।
अइसन महान अउ बड़े दानवीर सपूत हमर माटी म जन्म धरे रहिन। ये हम सबोझन बर बड़ गरब के बात ए। अइसन महान अमर सपूत दाऊ कल्यान सिंग ल कभु भुलाय नइ जा सकय।
नागपुर के लेडी डफरिन अस्पताल अउ सेंट्रल महिला महाविद्यालय ह घलो दाऊजी के देय दान से बने हे। बिहार म भूकम्प, वर्धा म बाढ़ या आसपरोस के परदेसमन म परे अकाल के समे दाऊजी ह गरीब अउ लाचार मनखेमन के मदद करिन। अपन गोदाममन ल खोल देवत रिहिन।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
अगली कहानी
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned