भोजली बने फसल के परतीक

परब बिसेस

By: Gulal Verma

Published: 27 Jul 2020, 05:56 PM IST

छ त्तीसगढ़ राज म लोक संस्करीति, लोक परब अउ लोक गीत ह हमर जिनगी म रचे-बसे हाबय। इहां हर परब के महत्तम हे। भोजली घलो ह हमर तिहार के रूप म आस्था के परतीक हावय। भोजली ह एक लोकगीत हे। सावन के अंजोरी पाख के पंचमी तिथि ले के राखी तिहार के दूसर दिन याने भादो के पहिली तिथि तक हमर छत्तीगढ़ राज म भोजली बोथें। बड़ सरद्धा भगती भाव ले माइलोगनमन भोजली गीत गाथे।
असल म ये समे धान के बोआई अउ सुरुआत के निंदाई-गोड़ाई के काम ह खेत म खतम होत्ती आये रहिथे। किसान के बेटीमन बने बरसात अउ बने फसल के मनोरथ मांगे के खातिर फसल के परतीकात्मक रूप म भोजली के आयोजन करथे।
सावन के दूसर पाख याने पंचमी याने नागपंचमी के दिन गहूं या जवा ल चिखला के माटी ल लाके वोकर ऊपर राख ल छिंच के गांव म माता चौरा, ठाकुर देव या फेर घर के पूजा-पाठ वाले जगा म जिहां अंधियार रहय तिहां बोय जाथे। हरदी पानी छिंच-छिंच के बड़े करथे। घर म कुंवार बेटीमन ऐकर बड़ सेवा-जतन करके पूजा करथें। जइसन देवी मां के जसगीत नवरात म गाथें, वइसने भोजली बोय के बाद वोकर सेवा म सेवा गीत, सिंगार गीत जुर-मिल के गाथें। माइलोगनमन अपन भोजली दाई ल जल्दी-जल्दी बाढ़े बर अरज करथें अउ कहिथें-
देवी गंगा, देवी गंगा लहर तुरंगा।
हमरो भोजली देवी भीजे आठो अंगा।
माड़ी भर जोंधरी, पोरिस कुसियार हो।
जल्दी बाढ़ौ भोजली, होवौ हुसियार।
अंधियार जगा म बोय भोजली ह सुभाविक रूप ले पिंवरा रंग के हो जाथे। भोजली के पिंवरा होय के बाद माइलोगनमन खुसी परगट करथे अउ भोजली दाई के रूप ल गौर बरनी अउ सोना के गहना ले सजे बता के अपन अरा-परोस के परिस्थिति ल घलो गीत म मिलाथे।
गये बजार, बिसाई डारे कांदा।
बिसाई डारे कांदा।
हमरो भोजल रानी, करे असनांदा।
ह हो देवी गंगा।
देवी गंगा, देवी गंगा, लहर तुरंगा।
हो लहर तुरंगा।
तुहरो लहरा भोजली, भिजे आठो अंगा।
ह हो देवी गंगा।
भादो के पहिली तिथि के भोजली माता बिसरजन बर कुंवारी नोनीमन टुकनी म लेके मुड़ी म बोह के एक के पाछू एक करके गांव के तरिया म ले जाथे। फेर भोजली दाई ल बने फसल के मनोरथ के साथ तरिया के पानी म बिसरजन कर देथें। भोजली के बिसरजन के बेरा थोरकन भोजली ल गांव के मनखेमन भगवान म चढ़ाथे अउ सियानमन ल येला देके गोड़ ल छू के आसीस लेथे। भोजली के दू-चार पउधा ल बेटी-माईमन एक-दूसर के कान म खोंच के तीन-तीन पीढ़ी बर मितान, गिया बदथें अउ सगा जइसे मानथे।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned