कोरोना महामारी ले कइसे मिलही छुटकारा?

कोरोना वायरस ले बाचे के उपाय

By: Gulal Verma

Published: 16 Sep 2020, 04:29 PM IST

को रोना के परकोप ह दिनोंदिन कीच्चक राक्छस जइसे बाढ़त जावत हे। अभी तो ये महामारी के इलाज बर कोनो दवई, इंजेक्सन नइये। दुनियाभर के बिग्यानिक, डॉक्टरमन कुछ महीना म दवाई अउ वैक्सीन बनाय के दावा करत हें। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारीमन ये बेमारी बर सावधानी रखे बर जियादा जोर देवत हें। आपमन ल सुस्वस्थ रहे बर ये करे बर चाही।
कुछ-कुछ बेरा म साबुन या सेनिटाइजर ले 20 सेकंड ले हाथ धोय बर चाही। खांसत या छींक आवत खानी डिस्पोजेबल टिसु पेपर ले अपन नाक अउ मुंह ल ढाक लेय बर चाही। काम-बुता करत खानी एक-दूसर ले कम से कम तीन फीट के दूरी बनाय के रखे बर चाही। जियादा ले जियादा समे घर म बिताय बर चाही। आपमन ल बेमारी हे त परिवार ले दूरिहा रहे बर चाही। हमर थोकिन असावधानी, लापरवाही ले हमर परिवार, समाज ल जान के जोखिम उठाय बर पर सकत हे। कोरोना महामारी ले बाचे बर हमन ल सरकार के आदेस के पालन करे बर चाही। कोरोना के लच्छन सूक्खा खांसी, छींक, देह म पीरा, तेज बुखार, कंपकंपी, सांस लेय म तकलीफ होवई ह आय।
जिनगी बचइया देवदूत 'डॉक्टरÓ
दे स ये समे कोरोना के कहर अउ डर ले जूझत हे। कोरोना वाइरस ले लड़ के आम मनखेमन के जिनगी ल बचाय बर डाक्टरमन दिन-रात चौबीस घंटा काम करत हें। ये करमबीरमन ऊपर हमन ल गरब हे।
हमर सफलता के नायक हें हमर डाकटर, नर्स, सुवास्थ्यकरमी, पुलिसकरमी, सफाईकरमी अउ परसासनिक अधिकारीमन। कोरोना मरीजमन के जान बचाय खातिर अपन परान के चिंता नइ करत हें। कईझन डॉक्टर, नर्स, पुलिस अउ सफाईकरमीमन अपन परान घलो दे दीन। कतकोनझन दूसर के इलाज अउ सेवा करत-करत खुदे बीमार पर गें। वोमन बने होके फेर अपन काम म लग गें। वोती दुनियाभर म कोरोना महामारी ले बचाय बर दवई, इंजेक्सन बनाय बर बिग्यानिक म दिन-रात भिड़े हें। कोनो भी जंग ल जीते बर बीर योद्धामन के जरूरत होथे। आज कोरोना ह जी के जंजाल बन गे हे। कोरोना ले जंग जीते बर डाक्टरमन अपन पूरा ताकत झोंक दे हें। वोमन मरीजमन बर देवदूत बन गे हें। तेकरे सेती तो डॉक्टरमन ल भगवान के दूसर रूप कहे जाथे।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned