सेहत अउ सुग्घरता बर रामबान हे लीम

स्वास्थ्य

By: Gulal Verma

Published: 17 Nov 2020, 04:34 PM IST

ह मर देस म एक हाना परचलित हे कि 'जे भुइंया लीम के रुख अउ पउधा होथे उहां मउत अउ बेमारी नइ होवय।Ó लीम एक चमत्कारिक पउधा ए। लीम के पउधा के सब्बे कुछु ह हमन बर काम के होथे। जेहा सेहत अउ सुग्घरता बर रामबान हावे।
लीम के उपयोग कतको परकार के बेमारी म करे जाथे। औसधि गुन के सेती आयुरवेदिक दवई म पुरखा जमाना ले उपयोग म चलत आत हे। हमर देस म लीम रूख गांव के मनखेमन के जिनगी के अभिन्न अंग ए।। मनखेमन ऐकर छइंया म बइठके सुख के अनुभव करथें।
लीम के पाना खाय म अब्बड़ करू होथे। लीम ह कईठन बेमारी ले बचाय के संगे-संग मनखे के सुग्घरता ल निखारे म रामबान के काम करथे। लीम के पाना खाय ले, लीम पाना के लेप बनाके लगाय ले किसिम-किसिम के फायदा मिलथे। लीम के पाना चेहरा अउ त्वचा के रंग ल उज्जर करथे अउ जलन या घाव ल घलो ठीक करे म अब्बड़ कारगर माने जाथे। लीम के ताजा पाना या रस ल रोज पिये ले खून साफ होथे। जेकर से त्वचा म निखार घलो आथे। लीम के मुखारी करे ले दांत पीरा म आराम मिलथे। ऐकर संगे-संग दांत म चमक घलो आथे। लीम के पाना ल पानी म चुरो के तेल म घोर के लगाय म चुंदी मजबूत होथे।
छिलका, बीजा म घलो औसधि गुन होथे
लीम पाना ल पीस के पेस्ट बनाके चेहरा म लगाय ले फोरा, फुंसी, खसू अउ दाग-धब्बा ले छुटकारा मिलथे। लीम के पाना से अपन घर म उपचार कर सकत हन। लीम के छिलका, बीजा म घलो बहुतेच औसधि गुन होथे। दांत अउ मसुड़ा के बेमारी म अब्बड़ काम आथे। लीम के डारा के मुखरीनक रूप उपयोग करे जाथे अउ ऐकर से गुहा अउ मसूड़ा के बेमारी ल रोकथे। पुरखा समे ले गांव के मनखेमन जादा उपयोग करथें। लीम के फूल म एक सुग्घर, मीठ, सहद जइसे गंध होथे। मधुमक्खी ल लीम के फूल पसंद हावे। लीम फूल के तेल के उपयोग अरोमाथेरेपी म घलो करे जाथे अउ ऐकर सेती ऐमा सांति परभाव होथे। लीम के रूख के अउ उपयोग हे।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned