आज नवा हे, काली जुन्ना हो जही

समाज

By: Gulal Verma

Updated: 11 Jan 2021, 04:12 PM IST

नवा बछर के आवभगत करे बर जनमन जोरदार तियारी करत दिखिन। अइसन बेरा म जुन्ना बछर 2020 के कलेंडर ह अपन बुड़ती बेरा के घड़ी ल टकटकी लगाय ताकत दिखिस। वोहा, बात ल समझ गे रिहिस कि जउन कलेंडर ह रोज-रोज तारीख ल बदलत रहिस। उही कलेंडर ल साल के आखिरी दिन माने 31 दिसम्बर के तारीख ह सदा -सदा बर बदल दिही। मानुस जिनगी के तको इही सच्चाई हावय। जउन आज हे, वोहा काली नइ रहय। जेन ह आज नवा हे, तेन हर काली खच्चित जुन्ना हो जही।
जुन्ना बछर के कलेंडर ये सच्चाई ल बतावत हर दिन, हर घड़ी भरपूर मजा के साथ जिनगी जिये के संदेसा देवत रहिस। वोहा सही मायने म खतम होवत जिनगी के बजाय नवा जिनगी के सुरू होय के तको संदेसा देवत रहिस। ‘रूख के गिरत पिंवरा पत्ता ह बताय हे कि जिनगी के ऐला अंत होहय, येहा तो सिरिफ छाव हे।’
जुन्ना बछर के कलेंडर ह अपन चेहरा म झुररी अउ डोकरापन के भाव ल छोड़ के नवा चमक ल बगरावत रहिस। अउ नवा बछर के कलेंडर बर अपन जगा ल खुसी-खुसी छोड़े बर तियार दिखिस। काबर कि वोहा बछरभर अपन काम ल मन लगा के करे रहिस। ते पाय के वोकरर भीतर आत्मसंतोस के भाव भराय रहिस।
जुन्ना बछर 2020 के कलेंडर ह बछरभर अपन धरम अउ करम ल ईमानदारी से निभाय रहिस हे। फेर, वो बिचारा के माथा म कोरोना वायरस कोविड 19 ह सदा-सदा बर कलंकित टीका कस गोदा गिस। अइसन कलंक के पीरा ल तको सहत-सहत वोहा बतावत रहिस कि जिनगी म बड़े ले बड़े बिपत के बेरा म तन अउ मन ल मजबूत बना के रखे बर चाही।
बछर के आखिरी घड़ी म तको जुन्ना कलेंडर के पन्नामन ह नान्हे-नान्हे नोनी-बाबू कस किलकारी मारत कहत रहिन कि दिन गिनत हाथ म हाथ धरे बइठे रहे ले बेरा ह मुठा म भराय रेती कस गिरत जाथे। ते पाय के अइसन सोच ल छोड़ देय बर चाही की अब उमर पहागे। अवइया बेरा म कोन जनी का का होही। अइसन बात ल सोच-सोच के अपन हिरदय म चिंता के पथरा म लदकना बने बात नोहय। काबर कि अइसन चिंता ह मनखे ल बुढ़वा बना देथे।
अइसन बिचार ले बचे बर हे त रोज-रोज कांही कुछु बने-बने समाजिक काम म जुड़े बर चाही। जिनगी के आखिरी दिन ल कोनो नइ जानय। फेर, भलाई के काम म लगे रहू त जिनगी के आखिरी दिन ह तको सुख-सांति के साथ बीत जाही। बुढ़वा होवई, जुन्ना होवई, बात ह तो संसार के रीत आय। ऐला जम्मोझन जानथे। अउ ऐला कोनो रोक नइ सकय। तभो ले कतकोझनमन ह डोकरा होवत हों, सोच-सोच के फोकटइहा चिंता-फिकर म परे रहिथें।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned