बासी अउ वोकर महत्तम

संस्करीति

By: Gulal Verma

Published: 03 May 2021, 04:16 PM IST

ये संसार म भुइंया के भगवान के पूजा अगर होथे त वो देस हावय भारत। जिहां भुइंया ल महतारी अउ किसान ल वोकर लइका कहे जाथे। ये संसार म अन्न के पूरति करइया अन्नदाता किसान हे। हमर छत्तीसगढ़ ल धान के कटोरा कहे जाथे अउ इहां के किसान अउ कमइया मनखेमन के परमुख अहार भात हावय। जेला कतकोन किसम ले जेवन के रूप म ले जाथे। जइसे चाउर के भात, चीला रोटी, फरा, बोबरा, बोरे अउ बासी। ऐेमा बासी ह गरमी के दिन के परमुख अहार आय।
छत्तीसगढ़ी भाखा म बासी एक भात के बने खाए के बियंजन आय। फेर, हिंदी भाखा म बासी बाचे जुन्ना खाए के जिनिस ल कहे जाथे। फेर, बासी रतिहा के भात ल पानी म बोरे जिनिस आय। जेला बिहनिया या मंझनिया तक खाए जा सकत हे।
बनाए के बिधि : बासी बनाए के बिधि बड़ आसान हे। रतिहा के बने भात ल बिहनियाा बुता-काम म जाय के पहिली खाय बर ऐला बनाए जाथे। रात के खाना खाके माइलोगनमन रतिहा जेन हडिया म भात ल बनाए रइथे वोमा पानी डार देथें। बिहनिया बुता-काम म जाय के पहिली वो रतिहा के भात जेला पानी म भिगोय रइथे वोमा नून डार के साग संग खाथें।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned