सक्ति देवी अउ जसगीत के परंपरा

परब बिसेस

By: Gulal Verma

Updated: 04 Oct 2021, 04:34 PM IST

मधु अउ कैटभ नांव के दूझन राक्छस ह ब्रम्हा ल मारे बर गिन त आदिसक्ति ह चमत्कार करिस अउ राक्छस मन के वध कर दीस। ऐकर बाद दुरगा के पूजा सुरू होइस। पूजा परंपरा ह आदिकाल से चलत आवत हे। बेद-पुरान म घलो देवी के स्तुति करत नइ थकय। कतकोन जगा तो नवरात के मायनेच होगे हे दुरगा पूजा करइ ह।
छत्तीसगढ़ के भक्ति कवि परंपरा म राजा अमरसिंह के नांव घलो गर्व से ले जाथे। ये पहिली कवि रिहिस, बाद म हैहयवंस के राज-परंपरा म सासक (राजा) बनिस। ऐकर गीत हे- ‘ तीन लोक कस्ट हरनी भवानी, तुम हो जगत्पति रानी हो माय, कनक-रथ पर विमल बिराजे, स्वेत धजा फहरानी हो माय।’
कहिथें के रायपुर के पुरानी बस्ती म राजा अमरसिंह के महामाया भक्ति ल देखके वोकर सुरता म महामाया मंदिर के इस्थापना करे गे हावय। लंगुरवा के माध्यम म अमरसिंह ल सक्तिदेवी मिलिस।
ऐकरे सेती महामाया मंदिर म ‘वीर लंगुरवा’ के मूरति हावय। कवि ह लंगुरवा के बारे म कहे हावय - ‘आसन मारि सिंहासन बैठे, सिर पर छत्र तनानी हो माय, सिंह चढ़े रन गरजे भवानी, वीर लंगुरवा अगुवानी हो माय।’
देवी गीत म अब आधुनिकता आवत हे
लोगनमन म देवता कस चरित अउ राक्छसमन ल मारे के छमता मां दुरगा से मिले हावय, तेकर सेती माता सक्ति देबी के उपासना करत रहव। राजा अमरसिंह कहिथे- ‘तब महिसासुर दानव मारे, तब हम जानी भवानी हो माय, राजा अमरसिंह अरज करत हे, परसन होहू भवानी हो माय।’ कवि ओंकारदत्त ह लिखे हावय - ‘धन भाग ओंकारदत्त के, प्रतिदिन जस गीत गावेंव।’ ‘जब सिरी सितला सुनतेंव, तुम्हरे आगमन हो माय, आपन अजिर लिपाय, सुगंधित गुगुर कपूर जलातेंव हो माय।’ कहुं-कहुं ऐला चारो जुग म देवी कहे गे हे। देवी के स्तुति म जउन गीत गाए जाथे वोमा आजकाल भले आधुनिकता समा गे हे, फेर जन-जन म सरधा अउ बिसवास आजो हावय।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned