सिक्छा हमर पुरखामन के

समाज

By: Gulal Verma

Updated: 11 Oct 2021, 04:34 PM IST

आज दुनिया भले कतको आधुनिक अउ समरिद्ध हो गे हे, फेर हमर पुरखामन के जिनगी जिए के ढंग ह आज के हिसाब ले जादा समरिद्ध अउ पढ़े- लिखे मनखेमन ले जादा गियानी रिहिन हें। हमर पुरखामन जब खेत जोते के बेरा नांगर चलात रइतिस अउ उही बेरा अगर कोनो बइला ह गोबर करे स्थिति म रहय त नांगर चलइय ल बंद कर दंय। बइला के गोबर करे बाद फेर नांगर चलांय। गाय-गरवामन बर अइस,न संवेदना हमर महान पुरखामन के मन म नानपन ले रहाय। जेला आज हमन अनपढ़ कहिथन। ये सब अभी 25-30 बछर पहिली तक होत रिहिस हे, फेर आज अइसन संवेदना नदा गे हे।
वो जमाना के देसी घीव ल अगर आजकाल के हिसाब ले किम्मत लगाही त वोहा अतना सुुद्ध राहत रिहिस की पच्चीस सौ रुपिया किलो तक बेचा जतिस। वो देसी घीव ल किसानमन ह बने काम के दिन म हर दू दिन बाद म आधा-आधा किलो घीव अपन बइलामन ल पियातिस।
टीटीरी नाम के चिरई जब अपन अंडा ल खेत म जमनतिस अउ वोला सेवय त नांगर चलाए के बेरा अगर कोनो टीटीरी चिरई ह चिल्लातिस त किसान ह वोकर अवाज ल सुन के समझ जावय अउ वोअंडा दे वाले भुइंया ल बिना जोते खाली छोड़ देवय। जबकि वो बेरा म आज जइसन आधुनिक सिक्छा नइ रिहिस। वो बेरा म सबझन आस्तिक राहंय। मंझनिया कन जब किसान के सुरताय के बेरा होवय त वोहा सबले पहिली बइलामन ल पानी पिया के चारा खवातिस, वोकर बाद ही अपन ह भात खातिस। ऐहा वोकरमन के रोज के नियम राहय।
बइला के मरत तक सेवा-जनत करे जाय
बइलामन ह जब बूढ़ा जतिस त वोला कसाईमन ल बेचई वो बेरा सामाजिक अपराध के गिनती म आवत रिहिस। बूढ़वा बइला कई बछर तक ठलहा बइठे चारा पगुरात राहय अउ किसान ह वोकर मरत तक ले वोकर सेवा करत राहंय। वोबेरा के बिगर पढ़े लिखे किसानमन के ये बिचार राहय की जेकर महतारी के बछरभर ले दूध-दही खाके अतका बड़ बाढ़े हंन अउ जेकर कमई खाए हंन, अब बूढ़तकाल म वोला कइसे छोड़ दन। कइसे कसाईमन ल दे दन काट के खाए बर। जब बइला मर जतिस त किसान ह फफक-फफक के रो डरतिस। किसान वोकर संग बिताए बेरा ल सुरता करतिस। हमन ल गरब हे हमर पुरखा अउ संस्करीति बर।

Gulal Verma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned