गैस सिलेंडर पर ए, बी, सी, डी और उसके आगे लिखे कुछ नंबर बताते हैं सिलेंडर की एक्पायरी डेट

  • समय-समय पर गैस पाइप और रेग्युलेटर की जांच करते रहें और आईएसआई मार्क वाला पाइप यूज करें

By: ashutosh kumar

Published: 22 Apr 2021, 08:57 PM IST

रायपुर. आपने किसी भी कंपनी का घरेलू गैस सिलेंडर लेते समय उस पर लिखे नंबर के बारे में जानने की कोशिश की है। गैस सिलेंडर पर ए, बी, सी, डी और उसके आगे कुछ नंबर सिलेंडर की एक्पायरी डेट की जानकारी देते हैं।
अगर आप अपने गैस सिलेंडर की एक्पायरी डेट चेक करना चाहते हैं तो ये बहुत आसान है। हर गैस सिलेंडर पर जहां रेग्यूलेटर लगाया जाता है, वहां पर डी-19 या ऐसा ही कुछ लिखा होता है। यह गैस सिलिंडर की एक्सपायरी डेट होती है। गैस सिलेंडर की एक्सपायर डेट के बाद इसका उपयोग करना खतरनाक हो सकता है। ऐसे सिलेंडर में गैस लीकेज और अन्य तरह की दिक्कतें हो सकती हैं। जिसके चलते इससे कोई हादसा हो सकता है। यह हादसा गैस सिलेंडर फटने जैसा भी हो सकता है।

    • आईए जाने नंबर की ए, बी, सी, डी
      सिलेंडर पर ए, बी, सी, डी और उसके आगे कुछ नंबर लिखे होते हैं। ए का मतलब है जनवरी से मार्च। बी यानी अप्रैल से जून। सी का अर्थ है जुलाई से सितंबर और डी अक्टूबर से दिसंबर। इसके आगे लिखे अंकों का संबंध एक्सपायरी महीने के खत्म होने वाले साल से होता है। उदाहरण के लिए सिलेंडर पर अगर ए-24 लिखा है तो इसका मतलब सिलेंडर की एक्सपायरी डेट साल 2024 में जनवरी से मार्च के बीच है। अगर सिलेंडर पर बी-20 लिखा है तो इसका मतलब है कि 2020 में अप्रैल से जून के बीच सिलेंडर एक्सपायर हो रहा है। अब आगे से सिलेंडर लेते समय उसकी एक्सपायरी डेट जरूर चेक कर लें। अगर सिलेंडर की एक्सपायरी डेट निकल चुकी है तो उसे फौरन वापस कर दें, वर्ना ये खतरनाक हो सकता है।
    • समय-समय पर गैस पाइप जरूर बदलें, हमेशा आईएसआई मार्क वाला पाइप लगाएं
      पेट्रोलियम कंपनी हर पांच साल में गैस एजेंसियों के कर्मचारियों के माध्यम से सर्वे कराती है। इस दौरान कर्मचारी घर-घर जाकर रसोई गैस की जांच करते हैं। रेग्यूलेटर खराब या पाइप कटा फटा होने पर उसे बदल दिया जाता हैं। इसके लिए कंपनी कुछ फीस लेती है। कई बार लोग फीस न देने के चक्कर में जांच तक नहीं कराते हैं, जो खतरनाक हो सकता है। हमेशा आईएसआई मार्क वाला पाइप लगाएं। यह पाइप फायर प्रूफ होता है और चूहे इसे नहीं काट सकते हैं।
गैस सिलेंडर पर ए, बी, सी, डी और उसके आगे लिखे कुछ नंबर बताते हैं सिलेंडर की एक्पायरी डेट

रसोई गैस इस्तेमाल करते समय बरतें ये सावधानियां

  • गैस सिलेंडर को हमेशा सीधा रखें। आड़ा या तिरछा कभी न रखें।
  • गैस चूल्हा हमेशा सिलेंडर से कम से कम छह इंच ऊपर किसी समतल जगह पर रखें।
  • खाना हमेशा खड़े होकर ही बनाएं।
  • चूल्हे को ऐसे स्थान पर रखें, जहां बाहर से सीधी हवा न लगे।
  • रसोई में गैस सिलेंडर के अलावा कोई ज्वलनशील पदार्थ मिट्टी तेल, पेट्रोल आदि न रखें।
  • चूल्हा जलाते समय पहले माचिस की तीली जलाएं, उसके बाद गैस ऑन करें।
  • भोजन बनाते समय कोई अन्य कार्य न करें, बल्कि चूल्हे के पास मौजूद रहें।
  • सूती कपड़े पहनकर या एप्रेन पहनकर ही खाना बनाएं।
  • गैस की गंध आने पर बिजली का स्विच, लाइटर, माचिस आदि न जलाएं और सभी खिड़की दरवाजे खोल दें।
  • गैस लीक होने पर रेग्यूलेटर को हटाकर सेफ्टी कैप लगा दें और उसे सिलेंडर को खुले में रखकर वितरक को सूचना दें।
ashutosh kumar Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned