Chhattisgarh के धूर नक्सल क्षेत्र में 13 सालों बाद दोबारा खुले स्कूल, मंत्री लखमा ने बच्चों को बांटे कॉपी-किताब

Chhattisgarh के धूर नक्सल क्षेत्र में 13 सालों बाद दोबारा खुले स्कूल, मंत्री लखमा ने बच्चों को बांटे कॉपी-किताब

Akanksha Agrawal | Publish: Jun, 25 2019 09:06:42 AM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

छत्तीसगढ़ के अति संवेदनशील नक्सल क्षेत्र में स्कूल चले हम अभियान के तहत सालों बाद बच्चों के लिए माध्यमिक और हाई स्कूल को दोबारा शुरू किया गया है।

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के धूर नक्सल क्षेत्र (Sensitive naxal area) सुकमा में 13 सालों बाद बच्चों का भविष्य दोबारा गढा जाएगा। छत्तीसगढ़ सरकार ने सुकमा (Sukma) जगरगुंडा में माध्यमिक शिक्षा (Middle school) मंडल और हाईस्कूलों में पढ़ाई दोबारा शुरू हुई है। 2019 के नए शिक्षण सत्र के पहले दिन उद्योग मंत्री कवासी लखमा (Kawasi lakhma) ने खुद बच्चों को किताबें बांटी। इस मौके पर बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स स्कूल पहुंचे।

Don't Miss this news: इस पहाड़ी पर हुआ था भगवान गणेश और परशुराम के बीच भयानक युद्ध, आज भी मिलते हैं निशान

स्कूल चले हम अभियान की हुई शुरूआत
24 जून को छत्तीसगढ़ में स्कूल चले हम अभियान की शुरूआत की गई। जिसमें हायर सेकेन्डरी स्कूल, बालक आश्रमशाला, बालक और कन्या छात्रावास की शुरूआत की गई। इसी के तहत सुकमा के अतिसंवेदनशील नक्सल क्षेत्र जगरगुंडा में 13 सालों से बंद स्कूल को दोबारा शुरू किया गया। इस मौके पर कलेक्टर चंदन कुमार सहित जिले के विभिन्न अधिकारी भी मौजूद थे।

स्कूल में सुरक्षा के कड़े इंतजाम
जगरगुंडा के समीप सलवा जुडूम शुरू होने के बाद 13 सालों से यहां माध्यमिक और हाई स्कूल बंद हो गया था। जिसे स्कूल चले हम अभियान के तहत दोबारा खोला गया है। यहां मंत्री कवासी लखमा ने बच्चों को स्कूली सामान बांटने के साथ ही वहां स्टूडेंट्स और शिक्षकों की कड़ी सुरक्षा के लिए निर्देश भी दिए हैं।

Read More: गर्मियों में बरगद के साथ लगाएं ये चार पेड़, इसके चमत्कारी गुण जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

सीएम भूपेश ने दी शुभकामनाएं
छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल (CM Bhupesh baghel) ने जगरगुंडा के सभी स्कूली बच्चों और उनके अभिभावकों को शुभकामनाएं दी है। उन्होने कहा कि बच्चों को 13 साल बाद दोबारा स्कूलों में जाता देखकर स्कूलों की रौनक बढ़ गई है। उन्होने प्रदेश की जनता को आश्वासन दिया है कि स्टूडेंट्स (students) के भविष्य के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। गौरतलब है कि राइट टू एजुकेशन (Right to education) के तहत अब छत्तीसगढ़ में 9वीं से 12वीं तक की पढ़ाई मुफ्त (Free education) में कराई जाएगी।

Right to education की खबरें पढ़ें यहां बस एक क्लिक में

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned