छत्तीसगढ़ : भाजपा का 22 को जिलों में प्रदर्शन, गिरफ्तारी भी देंगे

- सरकार को धान के मुद्दे पर घेरने प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में फैसला .

By: Bhupesh Tripathi

Published: 17 Jan 2021, 12:45 AM IST

रायपुर. प्रदेश में धान, किसान और बारदाने के मुद्दे पर भाजपा ने कांग्रेस सरकार को घेरने की पूरी तैयारी कर ली है। सरकार की किसान नीतियों के विरुद्ध भाजपा 22 जनवरी को सड़क पर उतरेगी। पहले हर जिले में आंदोलन की रूपरेखा तैयार हुई थी। मगर, शनिवार को एकाएक इसमें बदलाव किया गया। आंदोलन को और भी बड़ा बनाने के लिए हर जिले में भाजपाई कलेक्टर को ज्ञापन सौंपेगे, गिरफ्तारी देंगे। इस दौरान प्रदेश प्रभारी डी. पुरंदेश्वरी और सह प्रभारी नितिन नबीन दोनों मौजूद होंगे।

सूत्रों के मुताबिक 13 जनवरी को भाजपा ने किसानों के मुद्दों को लेकर विधानसभावार धरना दिया था। २२ जनवरी को जिला स्तर पर भी इससे बड़े आंदोलन की तैयारी थी। आंदोलन लगभग एक जैसे ही हो रहे थे। यही वजह है कि शुक्रवार को प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक बुलाई। जिसमें नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह समेत सभी पदाधिकारी मौजूद रहे। इस दौरान तय किया गया कि हर जिले में जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में आंदोलन होगा। जिला प्रभारी, विधायक अपने-अपने जिलों में आंदोलन का नेतृत्व करेंगे। राजधानी में प्रदेश प्रभारी पुरंदेश्वरी शामिल होंगी।

छत्तीसगढ़ : भाजपा का 22 को जिलों में प्रदर्शन, गिरफ्तारी भी देंगे

किसानों को परेशान न करें कांग्रेस: रमन
बैठक के बाद डॉ. रमन ने कहा कि कांग्रेस किसानों का ऐसा उत्थान न करे कि वे परेशान हों। बारदाना दे नहीं पा रहे, बोनस दे नहीं पा रहे। पहले इन सबकी व्यवस्था तो सरकार करे।

कांग्रेस के प्रदर्शन के बाद बदलाव
3 कृषि कानून को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम के नेतृत्व में शुक्रवार को कांग्रेसियों ने राजभवन का घेराव किया। कांग्रेसी काफी उग्र दिखे। सूत्रों की मानें तो भाजपा ने इस प्रदर्शन के बाद अपनी रणनीति में बदलाव किया है। एक तरफ कांग्रेस किसानों के लिए केंद्र द्वारा लगाए गए 3 कानूनों का विरोध कर रही है तो भाजपा राज्य में सरकार की नीतियों को किसान विरोधी करार देकर आंदोलनरत है।

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned