छत्तीसगढ़ कॉलेज बना वाई फाई जोन, महाविद्यालय ने बनाया खुद का एप

- महाविद्यालय का प्रयास उच्च शिक्षा विभाग में मील का पत्थर साबित।
- छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा देने में प्रबंधन सफल।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 09 Jan 2021, 12:31 AM IST

रायपुर। कोरोना काल में जे. योगानंदम छत्तीसगढ कॉलेज (छत्तीसगढ़ कॉलेज) के छात्रों को उत्कृष्ठ शिक्षा मिले, इसलिए महाविद्यालय प्रबंधन ने खुद का एप विशेषज्ञों से बनवाया है। इस एप के माध्यम से महाविद्यालय प्रबंधन छात्रों को शिक्षित कर रहा है और होमवर्क देने का काम भी कर रहा हे। एप से पढ़ाई कराने में शिक्षकों को परेशानी ना हो, इसलिए प्रबंधन ने पूरे परिसर को वाई फाई जोन में तब्दील कर दिया है। शिक्षक परिसर में कहीं से भी बैठकर छात्रों की क्लास ले रहे है, और उन्हें शिक्षित कर रहे है। महाविद्यालय के इस पहल की रविवि और उच्च शिक्षा विभाग के जिम्मेदारों ने तारीफ भी की है।

50 प्रतिशत सिलेबस हो चुका पूरा
महाविद्यालय प्रबंधन से मिली जानकारी के अनुसार एप के माध्यम से ऑनलाइन पढ़ाई करवाकर शिक्षक छात्रों का 50 प्रतिशत सिलेबस पूरा कर चुके है। महाविद्यालय में प्रवेश प्रक्रिया जारी होने के बाद ऑनलाइन पढ़ाई रोजना जारी है। एप के माध्यम से ही जिम्मेदार छात्रों की उपस्थिति और उनका होमवर्क चेक करते हे। एप में माध्यम से मॉनीटरिंग करने में महाविद्यालय प्रबंधन को भी आसानी भी हो रही है।

10 हजार में बनवाया एप
महाविद्यालय के जिम्मेदारों से मिली जानकारी के अनुसार छात्रों को शिक्षित करने के लिए नई स्टार्ट अप कंपनी में संपर्क करके मात्र 10 हजार रुपए एप का निर्माण करवाया है। महाविद्यालय का एप एंड्रायड मोबाइल के प्ले स्टोर में भी उपलब्ध है। महाविद्यालय की वेबसाइट में एप का लिंक प्रबंधन ने अपडेट किया है। महाविद्यालय की वेबसाइट से भी एप के माध्यम से छात्र व शिक्षक कनेक्ट हो सकते है।

महाविद्यालय के छात्रों को उत्कृष्ठ शिक्षा मिल सके और शिक्षकांे को छात्रों को पढ़ाने में परेशानी का सामना ना करना पड़े, इसलिए एप का निर्माण कराया गया है। परिसर को वाई फाई जोन में तब्दील किया है, ताकि पठन-पाठन में किसी को भी परेशानी ना उठानी पड़े।
- डॉ अमिताभ बैनर्जी, प्राचार्य , जे. योगानंदम छत्तीसगढ कॉलेज

Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned