छत्तीसगढ़ में दीपावली पर प्रदूषण में आई बड़ी कमी, इन वजहों से आई गिरावट

इस साल दीपावली पर पटाखों से होने वाले प्रदूषण में काफी गिरावट दर्ज की गई है। एेसा पहली बार हुआ है, जब पिछले साल की तुलना में रायपुर में कम प्रदूषण हुआ

By: Ashish Gupta

Published: 22 Oct 2017, 05:01 PM IST

रायपुर . इस साल दीपावली पर पटाखों से होने वाले प्रदूषण में काफी गिरावट दर्ज की गई है। एेसा पहली बार हुआ है, जब पिछले साल की तुलना में रायपुर में 22 तो बिलासपुर में 38 प्रतिशत कम प्रदूषण हुआ है। यही नहीं, पटाखों के के धमाकों में भी 7 फीसदी की कमी दर्ज की गई है।

पर्यावरण संरक्षण मंडल की रिपोर्ट से ये तथ्य सामने आए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक रायपुर में दिवाली की रात और अगले दिन सुबह हवा में प्रदूषण की मात्रा (पीएम-10) औसतन 82.4 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर पाया गया। पिछले साल यह 104.8 व 2015 में 158 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर था। इसी तरह वायु प्रदूषण में बीते दो वर्षों में सीधे 50 फीसदी की कमी आई है।

रिपोर्ट के मुताबिक दिवाली के दिन रायपुर में सल्फर डाई ऑक्साइड गैस का स्तर लगभग 9.00 प्रतिशत कम होकर 21.3 तथा नाइट्रोजन ऑक्साइड गैस का स्तर लगभग 19 प्रतिशत कम होकर 30.91 पाया गया। जबकि, वर्ष 2016 में सल्फर डाई ऑक्साइड का स्तर 26.4 एवं नाइट्रोजन ऑक्साइड 40.56 पाया गया था।

धमाके में 7 प्रतिशत की कमी
दिवाली के दिन रायपुर में इस वर्ष औसत ध्वनि की तीव्रता पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 7 प्रतिशत कम होकर 91.3 डेसीबल पाई गई। वर्ष-2016 में यह 97.2 डेसीबल थी। शहर के अलग-अलग जगहों पर शोर की अधिकतम मात्रा 91.३ डेसीबल रही है। पिछले साल यह 97.2 डेसीबल से ज्यादा पाई गई थी।

इन वजहों से आई गिरावट
- प्रशासन ने इस बार हवा और ध्वनि प्रदूषण को लेकर पटाखों की गुणवत्ता व आवाज के मामले में बीते वर्षों की अपेक्षा ज्यादा सख्ती बरती थी।
- लाइट या रंगीन नजारे दिखाने वाले पटाखों से प्रदूषण अधिक फैलता है, इसकी बिक्री नहीं की गई।
- जागरुकता अभियानों के कारण लोगों ने कम से कम प्रदूषण फैलाने वाले पटाखे इस्तेमाल किए।
- पटाखों पर 28 प्रतिशत जीएसटी भी वजह रही, जिसे कम पटाखों की बिक्री की गई।

छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण मंडल के अध्यक्ष अमन सिंह ने कहा कि इसका श्रेय आम जनता को जाता है। जन सहयोग मिलने के कारण ही प्रदूषण के स्तर में कमी आई है। यह उपलब्धि बिना जन-जागरुकता एवं जनता की भागीदारी के संभव नहीं है।

Show More
Ashish Gupta Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned