Chhattisgarh Pollpedia - Episode 20 – कांकेर में किसका जादू चलेगा?

Chhattisgarh Pollpedia - Episode 20 – कांकेर में किसका जादू चलेगा?

Deepak Sahu | Updated: 13 Mar 2019, 09:09:20 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

Chhattisgarh Pollpedia – Episode 20 – Whose magic will click in Kanker?
March 13 2019
Lok Sabha CG 2019

राजनीतिक दलों का प्रदर्शन
1) कांकेर लोक सभा सीट पर पहला चुनाव 1967 में संपन्न हुआ
2) कांकेर सीट पर पहली जीत दर्ज की जन संघ के त्रिलोक लाल प्रिएन्द्र शाह ने
3) कांकेर सीट पर सबसे ज्यादा पांच बार कांग्रेस के अरविन्द नेताम ने विजय हासिल की
4) अरविन्द नेताम के युग की समाप्ति के बाद भाजपा के सोहन पोटाई ने कांकेर में लगातार चार बार जीत का परचम लहराया
5) पिछले चार कार्यकाल से (अर्थात 1999 से) कांग्रेस कांकेर में महिला प्रत्याशी उतार रही है और हार रही है

2014 आम चुनाव का परिणाम
1) 2014 आम चुनाव में कांकेर सीट में 10 उम्मीदवार मैदान में थे
2) 2014 में भाजपा के विक्रम उसेंडी ने कांग्रेस के फूलोदेवी नेताम को 35158 वोटों से हराया था
3) विक्रम उसेंडी को 465215 वोट तथा फूलोदेवी नेताम को 430057 वोट मिले
4) 2014 में भाजपा का 45.75 फीसदी और कांग्रेस का 42.29 फीसदी वोट शेयर था, अन्य सभी दलों का वोट शेयर 55.67 फीसदी था
5) पांच साल पहले कांकेर लोक सभा सीट में कुल मतदाता थे 1448375, 49.91 प्रतिशत पुरुष और 50.09 प्रतिशत महिला वोटर थे
6) 2014 में कांकेर में 70.22 फीसदी मतदान हुआ, कुल मतदाता थे 1017080, कुल पोलिंग स्टेशन थे 1781

 

महत्वपूर्ण तथ्य
1) कांकेर लोक सभा सीट अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षित है
2) कांकेर लोक सभा सीट के अंतर्गत आठ विधानसभा सीट हैं – सिहावा, संजारी बालोद, डोंडी लोहारा, गुंडरदेही, अंतागढ़, भानुप्रतापपुर, कांकेर, केशकाल
3) हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने कांकेर लोक सभा के अंतर्गत सभी आठ सीट पर जीत दर्ज की
4) 1996 में कांग्रेस ने कांकेर से अपने पांच बार के सांसद अरविन्द नेताम को टिकट न देकर बाहर का रास्ता दिखा दिया, कारण था नेताम का नाम मालिक मकबूजा काण्ड में आना
5) अरविंद नेताम बस्तर संभाग में कांग्रेस का बड़ा चेहरा थे, कांग्रेस छूटा तो उन्होंने राजनीति में बने रहने के लिए बहुजन समाज पार्टी, भाजपा और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में बारी बारी कुछ समय बिताया
6) 2012 में अरविन्द नेताम की कांग्रेस वापसी के कुछ समय बाद ही कांग्रेस ने उन्हें छह वर्ष के लिए निष्कासित कर दिया
7) नेताम कांग्रेस से बाहर हुए क्योंकि उन्होंने पार्टी के अधिकृत राष्ट्रपति प्रत्याशी प्रणब मुख़र्जी के विरुद्ध चुनाव लड़ने वाले अपने ही दल के आदिवासी नेता पी ए संगमा का साथ दिया
8) 2017 में अरविन्द नेताम ने भाजपा से अलग हुए सोहन पोटाई के साथ जय छत्तीसगढ़ पार्टी बनाई, 2018 में वे फिर कांग्रेस में शामिल हो गए
9) 1996 में कांग्रेस ने पहली बार कांकेर से किसी महिला प्रत्याशी को उतारा और वो थीं अरविन्द नेताम की पत्नी छबीला नेताम
10) छबीला नेताम ने अपने पहले ही चुनाव में जीत दर्ज की, उन्होंने भाजपा के सोहन पोटाई को 24420 मतों से हराया
11) छबीला नेताम का कार्यकाल केवल दो वर्ष का रहा, 1998 में वे सोहन पोटाई से 54370 वोट से हार गईं

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned